भोले की दीवानी बन जाउंगी भजन लिरिक्स

भोले की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी,
मस्तानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी,
मस्तानी बन जाउंगी,
भोलें की दीवानी बन जाउंगी।।

तर्ज – कान्हा की दीवानी बन जाउंगी।



जटाजूट में गंगा बहती,

मस्तक चंदा साजे,
शिव शम्भू घट घट के वासी,
कण कण में विराजे,
मस्तानी बन जाउंगी,
मस्तानी बन जाउंगी,
भोलें की दीवानी बन जाउंगी।।



कानो में कुंडल तन म्रगछाला,

सुन्दर नयन विशाला,
कैलाश पर्वत पर डेरा डाला,
जोगी रूप निराला,
अन्जानी बन जाउंगी,
अन्जानी बन जाउंगी,
भोलें की दीवानी बन जाउंगी।।



कंठ में विष को धरने वाले,

अम्रत करने वाले,
पीवे भर भर भांग के प्याले,
शम्भु डमरू वाले,
पुरानी बन जाउंगी,
पुरानी बन जाउंगी,
भोलें की दीवानी बन जाउंगी।।



चक्र कमंडल त्रिशूल धर्ता,

श्रष्टि पालन कर्ता,
दुष्टों के भोले संहार कर्ता,
दुष्टों के है हर्ता,
भक्तानी बन जाउंगी,
भक्तानी बन जाउंगी,
भोलें की दीवानी बन जाउंगी।।



भोले की दीवानी बन जाउंगी,

दीवानी बन जाउंगी,
मस्तानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी,
मस्तानी बन जाउंगी,
भोलें की दीवानी बन जाउंगी।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें