झूलन चलो हिंडोलना वृषभान नंदनी भजन लिरिक्स

झूलन चलो हिंडोलना,
वृषभान नंदनी,

झूलन चलो हिडोलना,
वृषभान नंदनी ।।



सावन की तीज आई,
नवघोर घटा छाई,

सावन की तीज आई,
नवघोर घटा छाई,

नवघोर घटा छाई,
मेघन झड़ी लगाई,
पड़ी बूँद मंदिनी,

झूलन चलो हिडोलना,
वृषभान नंदनी ।।



सुंदर कदम की डारी,
झूलो पड़यो है प्यारी,

सुंदर कदम की डारी,
झूलो पड़यो है प्यारी,

झूलो पड़यो है प्यारी,
देखो उमर किशोरी,
सब दुख निकंदिनि,

झूलन चलो हिडोलना,
वृषभान नंदनी ।।



पहरो सुरंग सारी,
मानो विनय हमारी,
पहरो सुरंग सारी,
मानो विनय हमारी,

मानो विनय हमारी,
मुखचंद्र की उजियारी,
मृदुभाष नंदिनी,

झूलन चलो हिडोलना,
वृषभान नंदनी ।।



झूलन चलो हिंडोलना,
वृषभान नंदनी.

झूलन चलो हिडोलना,
वृषभान नंदनी ।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें