कौशल्या के छैया जन्म लिए भजन लिरिक्स

कौशल्या के छैया,
जन्म लिए,
बज रही अवध बधईया,
जन्म लिए,
बज रही अवध बधईया,
जन्म लिए,
कौशल्या के छैयां,
जन्म लिए।।



ढोल नगाड़े खूब बजे है,

ढोल नगाड़े खूब बजे है,
घर घर मंगल साज सजे है,
घर घर मंगल साज सजे है,
सज रई अवध नगरिया,
जन्म लिए,
कौशल्या के छैयां,
जन्म लिए।।



चौथे पन दशरथ सुत पाए,

चौथे पन दशरथ सुत पाए,
हीरे मोती खूब लुटाये,
हीरे मोती खूब लुटाये,
धन दौलत और गैया,
जन्म लिए,
कौशल्या के छैयां,
जन्म लिए।।



पारब्रह्म अवतार लये है,

पारब्रह्म अवतार लये है,
जग के पालनहार भये है,
जग के पालनहार भये है,
शेषनाग की शैया,
जन्म लिए,
कौशल्या के छैयां,
जन्म लिए।।



हर्षित है तीनों महतारी,

हर्षित है तीनों महतारी,
खुश है सारे नर और नारी,
खुश है सारे नर और नारी,
देव नचे ता थैया,
जन्म लिए,
कौशल्या के छैयां,
जन्म लिए।।



कौशल्या के छैया,

जन्म लिए,
बज रही अवध बधईया,
जन्म लिए,
बज रही अवध बधईया,
जन्म लिए,
कौशल्या के छैयां,
जन्म लिए।।

गीतकार / गायक – मनोज कुमार खरे।


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें