कौन कहते है गणराज आते नहीं भजन लिरिक्स

कौन कहते है गणराज आते नहीं,

हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम,
एकदंतम सदा मंगलम कारकम।।

तर्ज – अच्चुतम केशवम।



कौन कहते है गणराज आते नहीं,

हम तो प्रेम से उनको बुलाते नहीं,
हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम,
एकदंतम सदा मंगलम कारकम।।



कौन कहते है गणराज नाचते नहीं,

गणेश भक्तों के जैसे नचाते नहीं,
हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम,
एकदंतम सदा मंगलम कारकम।।



कौन कहते है गणराज खाते नहीं,

भाव से उनको मोदक खिलाते नहीं,
हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम,
एकदंतम सदा मंगलम कारकम।।



देखो ‘आशु’ बना बावला प्यार में,

बैठा गणपत के चरणों में सत्कार में,
भावना ऐसी तुम क्यों दिखाते नहीं,
तुम तो प्रेम से उनको बुलाते नहीं।।



हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम,

एकदंतम सदा मंगलम कारकम।।

Singer – Anil Sharma


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें