ये मिलते नहीं दोबारा रे करो मात पिता की सेवा भजन लिरिक्स

ये मिलते नहीं दोबारा रे,
करो मात पिता की सेवा।।

तर्ज – बता मेरे यार सुदामा रे।



मात पिता हो रूप हरी का,

मात पिता हो रूप हरी का,
पार तिरण का एक तरीका,
पार तिरण का एक तरीका,
यूँ वेद पुराण पुकारया रे,
करो मात पिता की सेवा।

ये मिलते नहीं दौबारा रे,
करो मात पिता की सेवा।।



है जिंदगानी बस दस दिन की,

है जिंदगानी बस दस दिन की,
कदर करे ना जो नर इनकी,
कदर करे ना जो नर इनकी,
वो फिरता मारा मारा रे,
करो मात पिता की सेवा।

ये मिलते नहीं दौबारा रे,
करो मात पिता की सेवा।।



जितने तीरथ दुनिया भर में,

जितने तीरथ दुनिया भर में,
सबके सब हो अपने घर में,
सबके सब हो अपने घर में,
बहे आनंद गंग धारा रे,
करो मात पिता की सेवा।

ये मिलते नहीं दौबारा रे,
करो मात पिता की सेवा।।



रामधन जे चावे सुख न्यारा,

रामधन जे चावे सुख न्यारा,
रहिये मात पिता का प्यारा,
रहिये मात पिता का प्यारा,
ये मिट जा दुखड़ा सारा रे,
करो मात पिता की सेवा।

ये मिलते नहीं दोबारा रे,
करो मात पिता की सेवा,

करो मात पिता की सेवा।।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

एक स्वांस का अंतर है मौत और जिंदगानी में लिरिक्स

एक स्वांस का अंतर है मौत और जिंदगानी में लिरिक्स

एक स्वांस का अंतर है, मौत और जिंदगानी में, थम गई जो तेरी धड़कने, खत्म सारी कहानी है।। तर्ज – एक प्यार का नगमा। एक स्वांस की चाबी से, चलता…

कृपा की दृष्टि मुझपे भी अगर इक बार हो जाए भजन लिरिक्स

कृपा की दृष्टि मुझपे भी अगर इक बार हो जाए भजन लिरिक्स

कृपा की दृष्टि मुझपे भी, अगर इक बार हो जाए, तो इस संसार से प्रभुवर, मेरा उद्धार हो जाए, कृपा की दृष्टि मुझपें भी, अगर इक बार हो जाए।। तर्ज…

आज तेरी काया दुर्बल हो गई भजन लिरिक्स

आज तेरी काया दुर्बल हो गई भजन लिरिक्स

आज तेरी काया दुर्बल हो गई, जिंदगी का बोझ ढोते ढोते।। तर्ज – राम तेरी गंगा मैली। श्लोक – सुनो सुनाये तुम्हे कहानी, की बिता बचपन आई जवानी, माया में…

पलट सुदामा देखन लागे कित गई मोरी टपरिया रे लिरिक्स

पलट सुदामा देखन लागे कित गई मोरी टपरिया रे लिरिक्स

पलट सुदामा देखन लागे, कित गई मोरी टपरिया रे, जा कुन बनवा दई अटरिया रे, कुन बनवा दई अटरिया रे।। जहां तो थी मोरी, कांस की टपरिया, कंचन महल बनवा…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

2 thoughts on “ये मिलते नहीं दोबारा रे करो मात पिता की सेवा भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे