प्रथम पेज कृष्ण भजन कन्हैया कन्हैया तू रहता किधर है भजन लिरिक्स

कन्हैया कन्हैया तू रहता किधर है भजन लिरिक्स

कन्हैया कन्हैया तू रहता किधर है,
कहाँ गोप ग्वाले वो राधा किधर है,
कन्हैया कन्हैया तु रहता किधर है।।

तर्ज – तेरे इश्क़ का मुझपे।



वो चलना मचलना वो माखन चुराना,

तेरा खूब आँखों से जादू चलाना,
जो सबको नचाती थी वो बंसी किधर है,
कन्हैया कन्हैया तु रहता किधर है।।



कहाँ नन्द बाबा वो दाऊ कहाँ है,

मिला दे वो मैया यशोदा कहाँ है,
जहाँ रास खेले थे वो मधुबन किधर है,
कन्हैया कन्हैया तु रहता किधर है।।



सखा वो सुदामा वो अर्जुन कन्हैया,
चला आ तू सामने मैं ले लूँ बलैयां,
ना तड़पा रे ‘लहरी’ आजा आजा किधर है,
कन्हैया कन्हैया तु रहता किधर है।।



कन्हैया कन्हैया तू रहता किधर है,

कहाँ गोप ग्वाले वो राधा किधर है,
कन्हैया कन्हैया तु रहता किधर है।।

Singer – Vishwas Rai


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।