कान्हा थारे वास्ते मोहन थारे वास्ते भजन लिरिक्स

कान्हा थारे वास्ते,
मोहन थारे वास्ते।

जन्मा री प्रीत प्यासी,
म्हारी थारे वास्ते,
कान्हा थारे वास्ते,
मोहन थारे वास्ते,
थे हो म्हारा ठाकुर जी,
म्हे चाकर थारे वास्ते,
कान्हा थारे वास्ते,
मोहन थारे वास्ते।।


माखन मिश्री को भोग बन्यो,
जल जमुना लोटे में है भरयो,
एजी थाल सजायौ म्हे तो,
चन्दन चौकी पर धरयो,
करा मनवार थारी,
जीमो म्हारा बनवारी,
आओ म्हारे वास्ते,
आओ म्हारे वास्ते।।


हे बांके बिहारी अर्ज करू,
जद भी थारो म्हे ध्यान धरु,
थारो ही दरस करू म्हे,
जद आंख्या बंद करू,
नटवर गिरधर थे हो नंदकिशोरा,
नटवर गिरधर थे हो नंदकिशोरा,
आओ म्हारे वास्ते,
आओ म्हारे वास्ते।।


हे देवकीनंदन कंसनिकन्दन,
अर्जुन सारथी कालिया मर्दन,
बृजनंदन धन धन थे हो,
गुण गावे जल थल कण कण,
बगल में श्यामल गैया मुकुट पे मोरा,
बगल में श्यामल गैया मुकुट पे मोरा,
आओ म्हारे वास्ते,
आओ म्हारे वास्ते।।


जन्मा री प्रीत प्यासी,
म्हारी थारे वास्ते,
कान्हा थारे वास्ते,
मोहन थारे वास्ते,
थे हो म्हारा ठाकुर जी,
म्हे चाकर थारे वास्ते,
काँन्हा थारे वास्ते,
मोहन थारे वास्ते।।


एल्बम 
“म्हारा सांवरिया गिरधारी”
गायक 
“श्री सम्पत दाधीच”
संगीत 
“श्री सतीश देहरा”
संपर्क
+91 98280 65814‬


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

बता दे क्यूं भूलाया रे भूलाया रे सांवरिया भजन लिरिक्स

बता दे क्यूं भूलाया रे भूलाया रे सांवरिया भजन लिरिक्स

बता दे क्यूं भूलाया रे, भूलाया रे सांवरिया, खाटू वाले खाटू वाले।। तर्ज – बना के क्यूं बिगाड़ा रे। मैं क्या जानूं दर से तेरे, कौन यहां क्या पाता है,…

तेरो लाल चुरावे माखन मैया से बोली ग्वालन भजन लिरिक्स

तेरो लाल चुरावे माखन मैया से बोली ग्वालन भजन लिरिक्स

तेरो लाल चुरावे माखन, मैया से बोली ग्वालन, छीका पे चढ़ के, मेरी मटकी फोड़ दई, अरे कछु खायो कछु बाँट दयो, सारो माखन और दही री मैया, तेरो लाल…

हारे के सहारे मुझे तुम बिन ना आराम लिरिक्स

हारे के सहारे मुझे तुम बिन ना आराम लिरिक्स

हारे के सहारे, मुझे तुम बिन ना आराम, नाराज़ी क्या है ऐसी, जो भूल गए मुझे श्याम।। तर्ज – सावन का महीना। चौखट को तेरी मैंने, संसार माना, प्रीत लगाई…

अखियां रे आगे रेवो दिनों रा नाथ निजरो रे नेङा लिरिक्स

अखियां रे आगे रेवो दिनों रा नाथ निजरो रे नेङा लिरिक्स

जोगन होय मैं जग ढूंढीओ, जोगीड़ो नहीं लाधो जोय, त्रिकुटी महल के गोखड़े, सहज मिलापा होय, अखियां रे आगे रेवो दिनों रा नाथ, निजरो रे नेङा, हा राम हरदम नेङा…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे