कान्हा तेरी गली से उठकर ना जाऊँगा लिरिक्स

कान्हा तेरी गली से,
उठकर ना जाऊँगा,
जितनी भी जिंदगी है,
जितनी भी जिंदगी है,
मैं यही बिताऊंगा,
कान्हां तेरी गली से,
उठकर ना जाऊँगा।bd।

देखे – रहते हो किस गली में।



तेरे रंग में ना रंगेंगे,

जब तक ये नैना कान्हा,
मेरी आत्मा को तब तक,
ना मिलेगा चैन कान्हा,
ना मिलेगा चैन कान्हा,
जब तक तुझे ना खुद मैं,
माखन खिलाऊंगा,
जितनी भी जिंदगी है,
मैं यही बिताऊंगा,
कान्हां तेरी गली से,
उठकर ना जाऊँगा।bd।



जितनी बची है सांसे,

इस तन में श्याम मेरे,
सौगंध तेरी मैंने,
लिख दी है नाम तेरे,
लिख दी है नाम तेरे,
तेरे नाम के सिवा ना,
कुछ और गाऊंगा,
जितनी भी जिंदगी है,
मैं यही बिताऊंगा,
कान्हां तेरी गली से,
उठकर ना जाऊँगा।bd।



विश्वास मेरे दिल को,

ये चमत्कार होगा,
राधे का भी तेरे संग,
मुझको दीदार होगा,
मुझको दीदार होगा,
रोऊँगा तुझसे मिलके,
कभी मुस्कुराऊंगा,
Bhajan Diary Lyrics,
जितनी भी जिंदगी है,
मैं यही बिताऊंगा,
कान्हां तेरी गली से,
उठकर ना जाऊँगा।bd।



कान्हा तेरी गली से,

उठकर ना जाऊँगा,
जितनी भी जिंदगी है,
जितनी भी जिंदगी है,
मैं यही बिताऊंगा,
कान्हां तेरी गली से,
उठकर ना जाऊँगा।bd।

Singer – Kumar Vishu Ji


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

अर्ज लगाऊं मैं सुनते नहीं क्यों मेरी श्याम भजन लिरिक्स

अर्ज लगाऊं मैं सुनते नहीं क्यों मेरी श्याम भजन लिरिक्स

अर्ज लगाऊं मैं, सुनते नहीं क्यों मेरी श्याम, तुमको सुनाकर बाबा, तुमको सुनाकर बाबा, मिलता आराम, अर्ज लगाऊँ मैं, सुनते नहीं क्यों मेरी श्याम।। तर्ज – किस्मत वालों को। दुखो…

खाटू वाले श्याम दा दरबार प्यारा लगता लिरिक्स

खाटू वाले श्याम दा दरबार प्यारा लगता लिरिक्स

मेरे श्याम दा दरबार, प्यारा लगता खाटू वाले श्याम दा, दरबार प्यारा लगता।। तर्ज – खाली दिल नइयो। हारो का सहारा, बाबा श्याम हमारा है, तीन बाण धारी वो तो,…

थारी मोरछड़ी सरकार सर पे फिरा दियो एक बार लिरिक्स

थारी मोरछड़ी सरकार सर पे फिरा दियो एक बार लिरिक्स

थारी मोरछड़ी सरकार, सर पे फिरा दियो एक बार, म्हारा खाटू रा सरदार, बिगड़ी यूँ बन जावेगी म्हारी भी, बिगड़ी यूँ बन जावेगी म्हारी भी।bd। तर्ज – कईया बैठ्या हो…

वो नाव नहीं डूबेगी जो चलती है श्याम सहारे भजन लिरिक्स

वो नाव नहीं डूबेगी जो चलती है श्याम सहारे भजन लिरिक्स

वो नाव नहीं डूबेगी, जो चलती है श्याम सहारे, उसे श्याम खिवैया बनकर, उसे श्याम खिवैया बनकर, भव सागर पार उतारे, वो नाव नहीं डुबेगी, जो चलती है श्याम सहारे।।…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे