कान्हा आएगा कान्हा आएगा भजन लिरिक्स

कान्हा आएगा कान्हा आएगा,
सच्चे दिल से श्याम पुकारो,
रुक नहीं पाएगा,
कान्हा आयेगा कान्हा आयेगा।।

तर्ज – मैं ना भूलूंगा।



वो दिन भी आएगा,

श्याम जब आएगा,
दीन बंधु हमपे,
दया बरसाएगा,
अपना साथी श्याम कन्हैया,
काम बनाएगा,
सच्चे दिल से श्याम पुकारो,
रुक नहीं पाएगा,
कान्हा आयेगा कान्हा आयेगा।।



ये अपने भक्तो के,

नहीं दुःख देख सके,
ये उनसे मिलने को,
ना खुद को रोक सके,
कलयुग का अवतार श्याम,
तुम्हे गले लगाएगा,
सच्चे दिल से श्याम पुकारो,
रुक नहीं पाएगा,
कान्हा आयेगा कान्हा आएगा।।



सहारा बनता है,

हारने वालों का,
मुकद्दर बनता है,
मानने वालों का,
‘शिव’ हारे के साथी की,
जयकार लगाएगा,
सच्चे दिल से श्याम पुकारो,
रुक नहीं पाएगा,
कान्हा आयेगा कान्हा आएगा।।



कान्हा आयेगा कान्हा आयेगा,

सच्चे दिल से श्याम पुकारो,
रुक नहीं पाएगा,
कान्हा आयेगा कान्हा आएगा।।

Singer : Sanjay Mittal Ji


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें