झिरमिर झिरमिर रे ओ खाटू वाला भजन लिरिक्स

झिरमिर झिरमिर रे,
ओ खाटू वाला,
म्हे रोवां जी बाबा,

म्हे रोवा जी बाबा,
सुनल्यो करूण पुकार,
अरजी म्हारी जी,
सुनल्यो सांवरा जी।।



है किस्मत का जी,

ओ खाटू वाला,
लेखना जी कोई,
लेखना जी कोई,

सब करमा को दोष,
थे ही सुधारो जी,
सुनल्यो सांवरा जी।।



करडी छाती जी,

ओ खाटू वाला,
क्यों भया जी बाबा,
क्यों भया जी बाबा,
कंइया हुआ थे कठोर,
टाबर बिलखे जी,
सुनल्यो सांवरा जी।।



छोड़ थारो दरबार,

ओ खाटु वाला,
कित जांवा जी बाबा,
कित जांवा जी,
और कोई ना आधार,
हिवड़े लगाओ जी,
सुनल्यो सांवरा जी।।



झिरमिर झिरमिर रे,

ओ खाटू वाला,
म्हे रोवां जी बाबा,

म्हे रोवा जी बाबा,
सुनल्यो करूण पुकार,
अरजी म्हारी जी,
सुनल्यो सांवरा जी।।

भजन प्रवाहक – संजू शर्मा जी।
प्रेषक – निलेश मदनलाल जी खंडेलवाल।
धामनगांव रेलवे। 9765438728


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें