प्रथम पेज कृष्ण भजन जीवन में जब जब दुःख आए जब जब जी घबराता है लिरिक्स

जीवन में जब जब दुःख आए जब जब जी घबराता है लिरिक्स

जीवन में जब जब दुःख आए,
जब जब जी घबराता है,
मेरा साथी बनके कन्हैया,
मेरे दुःख हरने आता है।।

तर्ज – भला किसी का कर ना।



जब जब दुनिया ने ठुकराया,

दुःख के बादल मंडराये,
अपने भगत की लाज बचाने,
ममोहन चलके आए,
जब जब भव में डोले नैया,
वो पतवार चलाता है,
मेरा साथी बनके कन्हैया,
मेरे दुःख हरने आता है।

जींवन में जब जब दुःख आए,
जब जब जी घबराता है,
मेरा साथी बनके कन्हैया,
मेरे दुःख हरने आता है।।



मतलब के है रिश्ते सारे,

झूठे सारे नाते है,
मतलब साबित जबतक ना हो,
तब तक साथ निभाते है,
जग के ठुकराए लोगो को,
पलकों पे ये बिठाता है,
मेरा साथी बनके कन्हैया,
मेरे दुःख हरने आता है।

जींवन में जब जब दुःख आए,
जब जब जी घबराता है,
मेरा साथी बनके कन्हैया,
मेरे दुःख हरने आता है।।



नरसी भगत का भात भरा,

सुदामा का उद्धार किया,
बीच सभा में लाज बचाई,
द्रोपदी का मान रखा,
अंधियारे जीवन में कान्हा,
सुख के दीप जलाता है,
मेरा साथी बनके कन्हैया,
मेरे दुःख हरने आता है।

जींवन में जब जब दुःख आए,
जब जब जी घबराता है,
मेरा साथी बनके कन्हैया,
मेरे दुःख हरने आता है।।



जीवन में जब जब दुःख आए,

जब जब जी घबराता है,
मेरा साथी बनके कन्हैया,
मेरे दुःख हरने आता है।।

Singer – Rakesh Kala


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।