जी चाहे बार बार तुम्हे देखता रहूँ भजन लिरिक्स

जी चाहे बार बार तुम्हे देखता रहूँ भजन लिरिक्स

जी चाहे बार बार तुम्हे देखता रहूँ,
ऐ हुस्न के सरकार तुम्हे देखता रहूँ,
जी चाहे बार बार तुम्हे देखता रहूँ।।

तर्ज – मिलती है जिंदगी में मोहब्बत



आँखों के रास्ते तुम्हे दिल में उतार के,

आँखों के रास्ते तुम्हे, दिल में उतार के,
हरपल ऐ बांके यार तुम्हे देखता रहूँ,
ऐ हुस्न के सरकार, तुम्हे देखता रहूँ,
जी चाहे बारबार तुम्हे देखता रहूँ।।



युग युग से प्यासी रूह को दीदार हो तेरा,

युग युग से प्यासी, रूह को दीदार हो तेरा,
अब हो ना इंतजार, तुम्हे देखता रहूँ,
ऐ हुस्न के सरकार, तुम्हे देखता रहूँ,
जी चाहे बारबार तुम्हे देखता रहूँ।।



नैनो से हैं हो मिले आगोश हो तेरा,

नैनो से हैं हो मिले, आगोश हो तेरा,
जी भर के करूँ प्यार तुम्हे देखता रहूँ,
ऐ हुस्न के सरकार, तुम्हे देखता रहूँ,
जी चाहे बारबार तुम्हे देखता रहूँ।।



दिल की लगी है दास कोई दिल्लगी नही,

दिल की लगी है दास, कोई दिल्लगी नही,
तुझ पर दूँ जान वार, तुम्हे देखता रहूँ,
ऐ हुस्न के सरकार, तुम्हे देखता रहूँ,
जी चाहे बारबार तुम्हे देखता रहूँ।।



जी चाहे बार बार तुम्हे देखता रहूँ,

ऐ हुस्न के सरकार तुम्हे देखता रहूँ,
जी चाहे बार बार तुम्हे देखता रहूँ।।

2 टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें