गम का अँधेरा ये जल्दी ढल जाएगा भजन लिरिक्स

गम का अँधेरा ये,
जल्दी ढल जाएगा,
मन में भरोसा है,
मेरा बाबा आएगा,
लीले चढ़ आएगा,
मेरी लाज बचाएगा,
मेरी लाज बचाएगा,
गम का अंधेरा ये,
जल्दी ढल जाएगा,
मन में भरोसा है,
मेरा बाबा आएगा।।



श्याम सुने ना ये हो नहीं सकता,

बस भक्तो के ये भाव परखता,
जो भाव अटल हो तो,
ये रुक नहीं पाएगा,
ये रुक नहीं पाएगा,
गम का अंधेरा ये,
जल्दी ढल जाएगा,
मन में भरोसा है,
मेरा बाबा आएगा।।



आस पुराये रोता हसाये,

मेरा सांवरा हारे को जिताए,
विश्वास है ये मुझको,
मुझको भी जिताएगा,
मुझको भी जिताएगा,
गम का अंधेरा ये,
जल्दी ढल जाएगा,
मन में भरोसा है,
मेरा बाबा आएगा।।



लहरे चाहे जितनी डराए,

तूफ़ा चाहे जितने भी आए,
‘निर्मल’ की नैया को,
मेरा श्याम चलाएगा,
मेरा श्याम चलाएगा,
गम का अंधेरा ये,
जल्दी ढल जाएगा,
मन में भरोसा है,
मेरा बाबा आएगा।।



गम का अँधेरा ये,

जल्दी ढल जाएगा
मन में भरोसा है,
मेरा बाबा आएगा,
लीले चढ़ आएगा,
मेरी लाज बचाएगा,
मेरी लाज बचाएगा,
गम का अंधेरा ये,
जल्दी ढल जाएगा,
मन में भरोसा है,
मेरा बाबा आएगा।।

Singer – Kumar Deepak


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें