प्रथम पेज आरती संग्रह जय गणेश पाहिमाम श्री गणेश रक्षा स्त्रोतम लिरिक्स

जय गणेश पाहिमाम श्री गणेश रक्षा स्त्रोतम लिरिक्स

जय गणेश पाहिमाम,

जय गणेश जय गणेश जय गणेश पाहिमाम,
जय गणेश जय गणेश जय गणेश रक्षमाम।।



मुदाकरात्तमोदकं सदा विमुक्तिसाधकं,

कलाधरावतंसकं विलासिलोकरक्षकम्।
अनायकैकनायकं विनाशितेभदैत्यकं,
नताशुभाशुनाशकं नमामि तं विनायकम्।।१।।



नतेतरातिभीकरं नवोदितार्कभास्वरं,

नमत्सुरारिनिर्जरं नताधिकापदुद्धरम्।
सुरेश्वरं निधीश्वरं गजेश्वरं गणेश्वरं,
महेश्वरं तमाश्रये परात्परं निरन्तरम्।।२।।



समस्तलोकशंकरं निरस्तदैत्यकुञ्जरं,

दरेतरोदरं वरं वरेभवक्त्रमक्षरम्,
कृपाकरं क्षमाकरं मुदाकरं यशस्करं,
मनस्करं नमस्कृतां नमस्करोमि भास्वरम्।।३।।



अकिंचनार्तिमार्जनं चिरन्तनोक्तिभाजनं,

पुरारिपूर्वनन्दनं सुरारिगर्वचर्वणम्।
प्रपञ्चनाशभीषणं धनंजयादिभूषणम्,
कपोलदानवारणं भजे पुराणवारणम्।।४।।



नितान्तकान्तदन्तकान्तिमन्तकान्तकात्मजं,

अचिन्त्यरूपमन्तहीनमन्तरायकृन्तनम्।
हृदन्तरे निरन्तरं वसन्तमेव योगिनां,
तमेकदन्तमेव तं विचिन्तयामि सन्ततम्।।५।।



महागणेशपञ्चरत्नमादरेण योऽन्वहं,

प्रजल्पति प्रभातके हृदि स्मरन् गणेश्वरम्।
अरोगतामदोषतां सुसाहितीं सुपुत्रतां,
समाहितायुरष्टभूतिमभ्युपैति सोऽचिरात्।।६।।



जय गणेश जय गणेश जय गणेश पाहीमाम,

जय गणेश जय गणेश जय गणेश रक्षमाम।।

गायक / प्रेषक – मिश्रा बंधु भानु प्रताप मिश्रा।
+91 9999750511


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।