जन्मे जन्मे कन्हैया रात बारह बजे जन्माष्टमी भजन लिरिक्स

जन्मे जन्मे कन्हैया रात बारह बजे,
कैसा सुंदर है नजारा रात बारह बजे,
जन्में जन्में कन्हैया रात बारह बजे।।

तर्ज – सांवरे तुमको पाना बता क्या।



खुल गए ताले सो गए रखवाले,

जब आई सुहानी वो रात हो,
कोई ना समझे ये कोई ना जाने,
बस होने लगी वो बरसात हो,
ले वासुदेव चले गोकुल को बारह बजे,
जन्में जन्में कन्हैया रात बारह बजे।।



देवकी ने कन्या जाई सबको बताई,

चारों और ऐसा शोर फैला दिया,
कंस ने मारण तलवार उठाई,
कन्या नभ में गई सब छोड़ हो,
अरे देवी रूप लिया कन्या ने बारह बजे,
जन्में जन्में कन्हैया रात बारह बजे।।



गोकुल में अपनी लीला दिखाएं,

डांट मैया से खाई भगवान ने,
लिखके भजन ज्योति सबको बताएं,
चोरी माखन की की घनश्याम ने,
अरे कंकर मार के मटकी फोड़ी बारह बजे,
जन्में जन्में कन्हैया रात बारह बजे।।



जन्मे जन्मे कन्हैया रात बारह बजे,

कैसा सुंदर है नजारा रात बारह बजे,
जन्में जन्में कन्हैया रात बारह बजे।।

Singer – Nitin Gupta
8194000035

Get Full List Of Janmashtami Bhajan Here.


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें