जमना री तीर जावा दे पानी रो घड़ियो लावा दे

जमना री तीर जावा दे,
पानी रो घड़ियो लावा दे,
परणया नें भातो देवा दे,
चूल्हा मे लकड़ी देवा दे,
हरी भजनों मे जावा दे,
भजन ना रो लावो लेवा दे,
शिव जी रे मँदिर जावा दे,
शिव जी नें जल चढ़ावा दे,
कानूडा लाल जावा दे जमुना रे तीर।।



कृष्ण बजाई बंशी,

बंशी मे मोती,
मोती रे लाल,
जावा दे जमना री तीर।।


चाली गुजरी चाली,
पानी भरवा नें चाली,
फोड़े रे लाल मटकी,
कानूडो म्हारी आज,
जावा दे जमना री तीर।।



कृष्णचंद री चेली,

चेली रे लागी ऐडी रे,
सावरिया लाल,
जावा दे जमना री तीर।।



हीरा गूजरी गावे,

चरणों मे शीश नमावे,
रे बनवारी लाल,
जावा दे जमना री तीर।।



जमना री तीर जावा दे,

पानी रो घड़ियो लावा दे,
परणया नें भातो देवा दे,
चूल्हा मे लकड़ी देवा दे,
हरी भजनों मे जावा दे,
भजन ना रो लावो लेवा दे,
शिव जी रे मँदिर जावा दे,
शिव जी नें जल चढ़ावा दे,
कानूडा लाल जावा दे जमुना रे तीर।।

प्रेषक – ओमप्रकाश सुथार थापन।
भजन गायक सुरेश जांगिड़।
बाड़मेर 7073648651


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें