गाँव रूनीचो सोवनो ए पाला आवे नर नार धणीया

गाँव रूनीचो सोवनो,
ए पाला आवे नर नार धणीया,
गाँव रूणिचो सोवनो रे ओ,
पाला आवे नर नार धणीया,
गाँव रूणिचो सोवनो रे।।



ओ धणीया मन्दिर बनीयो मोवनो,

ओ धणीया मन्दिर बनीयो मोवनो,
ए शोभा अपरम्पार धणीया,
मन्दिर बनीयो मोवनो रे,
ए शोभा अपरम्पार धणीया,
मन्दिर बनीयो मोवनो रे,
ओ धणीया गाँव बिठुजा सोवनो,
पाला आवे नर नार,
धणीया गाँव रूणिचो सोवनो रे।।



ओ धणीया ध्वजा फरूके देवरे,

ओ धणीया ध्वजा फरूके देवरे,
ए कोई ऊंचे उडे असमान,
धणीया ध्वजा फरूके देवरे रे,
ए कोई ऊंचे उडे असमान धणीया,
ध्वजा फरूके देवरे रे,
ओ धणीया गाँव रूनीचों सोवनो,
पाला आवे नर नार धणीया,
गाँव रूणिचो सोवनो रे।।



ओ धणीया लीलो घोडो नवलखो,

ओ धणीया लीलो घोडो नवलखो,
ए मोत्या जडी रे लगाम,
धणीया लीलो घोडो नवलखो रे,
ए ज्यारे मोत्या जडी रे लगाम,
धणीया लीलो घोडो नवलखो रे,
ओ कवरा गाँव रूनीचो सोवनो,
पाला आवे नर नार धणीया,
गाँव रूणिचो सोवनो रे।।



ओ धणीया हरजी भाटी री विनती,

ओ धणीया हरजी भाटी री विनती,
अरे प्रकाश चरनो रे माय,
धणीया हरजी भाटी री विनती रे,
ओतो प्रेम चरनो रे माय,
धणीया हरजी भाटी री विनती रे।।



गाँव रूनीचो रूणिचो,

ए पाला आवे नर नार धणीया,
गाँव रूनीचो सोवनो रे ओ,
पाला आवे नर नार धणीया,
गाँव रूणिचो सोवनो रे।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें