प्रथम पेज कृष्ण भजन जल्दी खुले दरबार सांवरे भजन लिरिक्स

जल्दी खुले दरबार सांवरे भजन लिरिक्स

है अब तो यही इंतज़ार सांवरे,
जल्दी खुले दरबार सांवरे,
तेरा जल्दी खुले दरबार साँवरे।।

तर्ज – चलता रहूँ तेरी ओर सांवरे।



हाथ जोड़ कर करूँ प्रार्थना,

अब तो सांझ सवेरे,
जल्दी से जल्दी हो जाए,
अब तो दर्शन तेरे,
ह्रदय की मेरे ये पुकार सांवरे,
ह्रदय की मेरे ये पुकार सांवरे,
जल्दी खुले दरबार साँवरे,
तेरा जल्दी खुले दरबार साँवरे।।



अपने मन की सारी बातें,

बाबा तुम्हे बताऊँ,
के बीती कैसे बीती,
थाने इक इक बात बताऊँ,
दिल व्याकुल बड़ा बेक़रार सांवरे,
दिल व्याकुल बड़ा बेक़रार सांवरे,
जल्दी खुले दरबार साँवरे,
तेरा जल्दी खुले दरबार साँवरे।।



सबके मन की हो सुनते प्रभु,

मेरी भी सुन लीजे,
दर्शन करने की है ख्वाइश,
पूरी से कर दीजे,
बिनती ‘टींके’ की करो स्वीकार सांवरे,
हाँ ये अर्ज़ी करो स्वीकार सांवरे,
जल्दी खुले दरबार साँवरे,
तेरा जल्दी खुले दरबार साँवरे।।



है अब तो यही इंतज़ार सांवरे,

जल्दी खुले दरबार सांवरे,
तेरा जल्दी खुले दरबार साँवरे।।

Singer & Writer – Tinka Soni


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।