जगदम्बा हमरे घर में पधार रही रे लिरिक्स

जगदम्बा हमरे घर में,
पधार रही रे।।



मोतियन चौक में द्वारे पुराऊं,

मल मल आसन सजाय दयों रे,
जगदम्बा हमरे घर मे,
पधार रही रे।।



गंगा जल से चरण पखारुं,

चरणन फूल चढ़ाए दइयों रे,
जगदम्बा हमरे घर मे,
पधार रही रे।।



कंचन थार कपूर की बाती,

मैया की आरती उतार दइयों रे,
जगदम्बा हमरे घर मे,
पधार रही रे।।



हलवा पूरी खीर बताशा,

मैया को भोग लगाएं दइयों रे,
जगदम्बा हमरे घर मे,
पधार रही रे।।



पान सुपाड़ी ध्वजा नारियल,

‘राजेंद्र’ भेंट चढ़ाए दइयों रे,
जगदम्बा हमरे घर मे,
पधार रही रे।।



जगदम्बा हमरे घर में,

पधार रही रे।।

गायक / प्रेषक – राजेंद्र प्रसाद सोनी।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

जग से निराली है मेरी माॅं सबसे प्यारी है लिरिक्स

जग से निराली है मेरी माॅं सबसे प्यारी है लिरिक्स

जग से निराली है मेरी माॅं, सबसे प्यारी है, मेरी माॅं मगरोला वाली, तेरी महिमा न्यारी है, मेरी मैया झण्डे वाली, तेरी महिमा न्यारी है।। तर्ज – दीवाना बना दिया…

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं हिंदी लिरिक्स

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं हिंदी लिरिक्स

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं, स्वीकार करो माँ, मझधार में मैं अटकी, बेडा पार करो माँ, बेडा पार करो माँ, हे माँ संतोषी,माँ संतोषी॥ बैठी हूँ बड़ी आशा से, तुम्हारे…

भवानी मैया शारदा भजो रे भजन लिरिक्स

भवानी मैया शारदा भजो रे भजन लिरिक्स

भवानी मैया शारदा भजो रे, शारदा भजो रे, भर जेहे सकल भण्डार रे, भवानी मैया हो।। रुठ के बैठी शारदा भुवन में, शारदा भुवन में, लंबे लंबे बिखराये अपने केश…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे