बीच भंवर में फसी मेरी नैया तुम्ही हो खिवैया माँ भजन लिरिक्स

बीच भंवर में फसी मेरी नैया,
तुम्ही हो खिवैया माँ,
तुम्ही हो खिवैया।।

तर्ज – तुम्ही मेरे मंदिर।



तेरा ही भरोसा माँ,

तेरा ही सहारा,
तुम्ही को पुकारा माँ,
तुम्ही को पुकारा,
तेरे ही भरोसे पे,
चले मेरी नैया,
तुम्ही हो खिवैया माँ,
तुम्ही हो खिवैया।।



बडी तेज आंधी,

तूफानों ने घेरा,
बता कुन है मेरा माँ,
यहाँ कुन है मेरा,
खड़ी क्या हुई के,
चली आ तू मैया,
तुम्ही हो खिवैया माँ,
तुम्ही हो खिवैया।।



सुनी जब भगत की,

झट दौड़ी आई,
पतवार हाथों ले,
किनारे लगाई,
बडी ही दयालु है,
‘प्रवीण’ मेरी मैया,
तुम्ही हो खिवैया माँ,
तुम्ही हो खिवैया।।



बीच भंवर में फसी मेरी नैया,

तुम्ही हो खिवैया माँ,
तुम्ही हो खिवैया।।

Singer & Lyricist – Shri Pravin Hisariya Ji


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें