प्रथम पेज कृष्ण भजन जबसे खाटू में जाने की शुरुआत की भजन लिरिक्स

जबसे खाटू में जाने की शुरुआत की भजन लिरिक्स

जबसे खाटू में जाने की शुरुआत की,
मुझको चिंता नहीं है किसी बात की,
हर घड़ी साथ रहता है बाबा मेरे,
हर घड़ी साथ रहता है बाबा मेरे,
जबसे बाबा से मैंने मुलाकात की,
जबसे खाटु में जाने की शुरुआत की,
मुझको चिंता नहीं है किसी बात की।।

तर्ज – कभी प्यासे को पानी।



हार कर जो भी आया शरण में तेरी,

तूने उसको सहारा दिया सांवरे,
उसके जीवन में कुछ भी कमी ही नहीं,
नाम जिसने भी तेरा लिया सांवरे,
बाबा रखता खबर मेरे हालात की,
बाबा रखता खबर मेरे हालात की,
मुझको चिंता नहीं है किसी बात की,
हर घड़ी साथ रहता है बाबा मेरे,
जबसे बाबा से मैंने मुलाकात की।।



तेरी किरपा से मेरा गुजारा चले,

तुमको पाकर मुझे हर ख़ुशी मिल गई,
तूने इतना दिया मैंने सोचा नहीं,
जबसे बाबा तुम्हारी शरण मिल गई,
मेरे नैनो में सूरत बसी श्याम की,
मेरे नैनो में सूरत बसी श्याम की,
मुझको चिंता नहीं है किसी बात की,
हर घड़ी साथ रहता है बाबा मेरे,
जबसे बाबा से मैंने मुलाकात की।।



मुझको चिंता नहीं तू मेरे साथ है,

डोर जीवन की बाबा तेरे हाथ है,
ध्यान रखता है हर पल मेरा सांवरा,
बाबा चरणों में बैठा तेरा दास है,
मेरे जीवन में खुशियों की बरसात की,
मेरे जीवन में खुशियों की बरसात की,
‘उज्जवल’ चिंता नहीं है किसी बात की,
हर घड़ी साथ रहता है बाबा मेरे,
जबसे बाबा से मैंने मुलाकात की।।



जबसे खाटू में जाने की शुरुआत की,

मुझको चिंता नहीं है किसी बात की,
हर घड़ी साथ रहता है बाबा मेरे,
हर घड़ी साथ रहता है बाबा मेरे,
जबसे बाबा से मैंने मुलाकात की,
जबसे खाटु में जाने की शुरुआत की,
मुझको चिंता नहीं है किसी बात की।।

Singer – Akash Shukla


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।