जब याद तुम्हारी आती है भजन लिरिक्स

जब याद तुम्हारी आती है,
मैं तेरे दर पर आता हूँ,
अपने सुख दुख को हे ठाकुर,
मैं रो रो तुम्हे सुनाता हूँ,
जब याद तुम्हारी आती हैं,
मैं तेरे दर पर आता हूँ।।



फुलो में तुम्हारी खुशबु है,

पत्तो में तुम्हारी हस्ती है,
पर फूल नही है पास मेरे,
दो नयन चढ़ाने आया हूँ,
जब याद तुम्हारी आती हैं,
मैं तेरे दर पर आता हूँ।।



तुम मेरे हो मैं तेरा हूँ,

बस और नही कुछ याद मुझे,
यह ध्यान सदा मेरे मन में रहे,
यह विनय सुनाने आया हूँ,
जब याद तुम्हारी आती हैं,
मैं तेरे दर पर आता हूँ।।



तुम मेरे प्यारे साँवरिया,

मेरा तुमसे हमेशा नाता है,
नही और कोई मेरी सुनता है,
मैं तुम्हे सुनाने आया हूँ,
जब याद तुम्हारी आती हैं,
मैं तेरे दर पर आता हूँ।।



जब याद तुम्हारी आती है,

मैं तेरे दर पर आता हूँ,
अपने सुख दुख को हे ठाकुर,
मैं रो रो तुम्हे सुनाता हूँ,
जब याद तुम्हारी आती हैं,
मैं तेरे दर पर आता हूँ।।

Singer : Devi Chitralekha Ji

भजन प्रेषक – पवन शर्मा
9694768800


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें