प्रथम पेज दुर्गा माँ भजन जब जब हम दादी का मंगल पाठ करते हैं भजन लिरिक्स

जब जब हम दादी का मंगल पाठ करते हैं भजन लिरिक्स

जब जब हम दादी का,
मंगल पाठ करते हैं,
साछात धनयाणी से,
हम बात करते हैं।।



जो मंगल पाठ कराते हैं,

उनके रहते हरदम ठाठ,
जहां ये पाठ होता है,
वहां हो खुशियों की बरसात,
जब जब हम दादी की,
जयकार करते हैं,
साछात धनयाणी से,
हम बात करते हैं।।



कोई चुडला लाता है,

कोई मेहंदी लाता है,
कोई चूनडि लाता है,
कोई गजरा लाता है,
जब जब हम दादीँ का,
सिणगार करते हैं,
साछात धनयाणी से,
हम बात करते हैं।।



बधाई सबको मिलती है,

खजाना सब कोई पाते हैं,
दादी जी का कैलाशी,
मिलकर लाड लडाते हैं,
जब जब हम दादीँ की,
मनुहार करते है,
साछात धनयाणी से,
हम बात करते हैं।।



जब जब हम दादी का,

मंगल पाठ करते हैं,
साछात धनयाणी से,
हम बात करते हैं।।

– भजन लेखक प्रेषक व गायक –
श्री विकाश सुगन्ध कैलाशी।
7667542123


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।