प्रथम पेज कृष्ण भजन इन अंखियो का संवरा नजारा नज़रे जो श्याम से मिली लिरिक्स

इन अंखियो का संवरा नजारा नज़रे जो श्याम से मिली लिरिक्स

इन अंखियो का संवरा नजारा,
नज़रे जो श्याम से मिली,
ये जहाँ सारा लगता हमारा,
नज़रे जो श्याम से मिली।।

तर्ज – किन्ना सोणा तेनु।



जग की ठोकर दर दर खाई,

भटक भटक कर शरण में आई,
अब चाहिए ना जग का सहारा,
नज़रे जो श्याम से मिली,
ये जहाँ सारा लगता हमारा,
नज़रे जो श्याम से मिली।।



अंधियारे में कर दिया उजाला,

शीश का दानी खाटू वाला,
मेरी किस्मत का चमका सितारा,
नज़रे जो श्याम से मिली,
ये जहाँ सारा लगता हमारा,
नज़रे जो श्याम से मिली।।



मन दीवले की श्याम ही बाती,

श्याम ही ‘गोलू’ सच्चा साथी,
बिन श्याम के ना कुछ भी गवारा,
नज़रे जो श्याम से मिली,
ये जहाँ सारा लगता हमारा,
नज़रे जो श्याम से मिली।।



इन अंखियो का संवरा नजारा,

नज़रे जो श्याम से मिली,
ये जहाँ सारा लगता हमारा,
नज़रे जो श्याम से मिली।।

Singer – Bulbul Agarwal


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।