हम नैन बिछाए है हे गणपति आ जाओ भजन लिरिक्स

हम नैन बिछाए है,
हे गणपति आ जाओ।।

तर्ज – मुरली वाले ने घेर लई।



गणपति तुम हो बड़े दयालु,

किरपा कर दो हे किरपालु,
हर सांस बुलाए है,
हे गणपति आ जाओ,
हम नैन बिछाए ,
हे गणपति आ जाओ।।



पाप की गठरी सर पे भारी,

हम को है बस आस तुम्हारी,
बड़ा मन घबराए है,
हे गणपति आ जाओ,
हम नैन बिछाए है,
हे गणपति आ जाओ।।



जग से हमने तोडा नाता,

गणपति तुमसे जोड़ा नाता,
तुझे नैना निहारे है,
हे गणपति आ जाओ,
हम नैन बिछाए हैं,
हे गणपति आ जाओ।।



माथे पर सिंदूर है प्यारा,

पीताम्बर है तन पर धारा,
सब आस लगाए है,
हे गणपति आ जाओ,
हम नैन बिछाए हैं,
हे गणपति आ जाओ।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें