हीरा जडियो पालनो जसोल गढ रे माय भजन लिरिक्स

हीरा जडियो पालनो,
जसोल गढ रे माय,
पालना में हिण्डे देखो,
नेनो राजकुमार,
माता स्वरूपा हुलराय,
धीमा धीमा हिण्डा देवे,
हंस हंस ने बतलाय,
गीगा सोजा म्हारा लाल,
झूला झूलन बाहर जाऊ,
सुनले म्हारी बात।।



रानी स्वरूपा तीज ने,

झूला झूलन जाय,
रानी स्वरूपा तीज ने,
झूला झूलन जाय,
रानी देवली ने कयो,
चालो म्हारे साथ,
रानी देवली ने कयो,
चालो म्हारे साथ,
माता स्वरूपा हुलराय,
धीमा धीमा हिण्डा देवे,
हंस हंस ने बतलाय,
गीगा सोजा म्हारा लाल,
झूला झूलन बाहर जाऊ,
सुनले म्हारी बात।।



रानी देवली वैर सु,

साथे जावे नाय,
रानी देवली वैर सु,
साथे जावे नाय,
महला मे छाने सेवा,
दासी ने बुलवाय,
महला मे छाने सेवा,
दासी ने बुलवाय,
माता स्वरूपा हुलराय,
धीमा धीमा हिण्डा देवे,
हंस हंस ने बतलाय,
गीगा सोजा म्हारा लाल,
झूला झूलन बाहर जाऊ,
सुनले म्हारी बात।।



लालसिंह ने दूध मे,

दीनो जहर पिलाय,
लालसिंह ने दूध मे,
दीनो जहर पिलाय,
रानी स्वरूपा शोक मे,
प्राण त्याग कर जाय,
रानी स्वरूपा शोक मे,
प्राण त्याग कर जाय,
माता स्वरूपा हुलराय,
धीमा धीमा हिण्डा देवे,
हंस हंस ने बतलाय,
गीगा सोजा म्हारा लाल,
झूला झूलन बाहर जाऊ,
सुनले म्हारी बात।।



रानी स्वरूपा लोक में,

भटियाणी कहलाय,
रानी स्वरूपा लोक में,
भटियाणी कहलाय,
जो कोई सिवरे भाव सु,
उनरा कष्ट मिटाय,
जो कोई सिवरे भाव सु,
उनरा कष्ट मिटाय,
माता स्वरूपा हुलराय,
धीमा धीमा हिण्डा देवे,
हंस हंस ने बतलाय,
गीगा सोजा म्हारा लाल,
झूला झूलन बाहर जाऊ,
सुनले म्हारी बात।।



हीरा जडियो पालनो,

जसोल गढ रे माय,
पालना में हिण्डे देखो,
नेनो राजकुमार,
माता स्वरूपा हुलराय,
धीमा धीमा हिण्डा देवे,
हंस हंस ने बतलाय,
गीगा सोजा म्हारा लाल,
झूला झूलन बाहर जाऊ,
सुनले म्हारी बात।।

प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

म्हारा रामापीर जी गेंद खेलण ने जावे भजन लिरिक्स

म्हारा रामापीर जी गेंद खेलण ने जावे भजन लिरिक्स

म्हारा रामापीर जी गेंद, खेलण ने जावे, कळा ये दिखावे, धणी देवे दड़ी रे डोटो, खेल रचावे, धणी देवे दड़ी रे डोटो, खेल रचावे।। आ गेंद गुरु श्री, बालकनाथ डर…

फकीरी जीवत धुके मसाण कर लीजो निज छाण

फकीरी जीवत धुके मसाण कर लीजो निज छाण

फकीरी जीवत धुके मसाण, कर लीजो निज छाण, फकीरी जीवत धुकें मसाण।। छह दर्शण छतीसू पाखण्ड, लग रही खींचातान, उलट पड़े इण जुग रे माही, जद पड़े थारी जाण, फकीरी…

पितरा की पातड़ी घड़ दे सोनी का पितृ भजन लिरिक्स

पितरा की पातड़ी घड़ दे सोनी का पितृ भजन लिरिक्स

पितरा की पातड़ी घड़ दे सोनी का, नुत जिमाऊं ऊत बुलावा, दिया जलावां घी का।। सोना चांदी की पातडी में, हीरा जड द लाल, सतरंह्यो डोरो भी ल्याजो, ल्याजे बेगो…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे