हारे हुओ की मंजिल है खाटू का धाम रे भजन लिरिक्स

जाते है जो खाटू धाम,
बण जाते काम रे,
हारे हुओ की मंजिल है,
खाटू का धाम रे,
हारे हुओ की मंजिल हैं,
खाटू का धाम रे।।



जो भी खाटू जावे से,

प्यार बाबा का पावे से,
खाटू में बैठा बाबा,
भक्ता ने माल लूटावै से,
सच्चे मन से जाते,
बण जाते काम रे,
हारे हुओ की मंजिल हैं,
खाटू का धाम रे।।



दानी के दरबार में,

भीड़ कसूती होरी से,
CA की तरह काम करें,
ऐसी चर्चा होरी से,
हार कर जाते जो भी,
पकड़े हाथ रे,
हारे हुओ की मंजिल हैं,
खाटू का धाम रे।।



श्याम भक्तों की नैया,

खाटू वालों चलावे से,
जब भी नैया डूबे,
बिन पतवार चलावे से,
नैया का माझी,
बण जाता श्याम रे,
हारे हुओ की मंजिल हैं,
खाटू का धाम रे।।



जब जब बाबा मैं हारा,

तू ही सहारा बण जा से,
‘टिंकू’ की नैया का बाबा,
तू ही किनारा बणजा से,
जिंदगी के दुखों से तू,
बाहर निकाल रे,
हारे हुओ की मंजिल हैं,
खाटू का धाम रे।।



जाते है जो खाटू धाम,

बण जाते काम रे,
हारे हुओ की मंजिल है,
खाटू का धाम रे,
हारे हुओ की मंजिल हैं,
खाटू का धाम रे।।

Singer / Uploaded By – Tinku Goyal
8168040655


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें