गुरु मुरारी की बणी समाधि सुणो गाम समचाणे म लिरिक्स

गुरु मुरारी की बणी समाधि,
सुणो गाम समचाणे म,
दुनिया जावः तेरे प वारी,
बैठया भगमा बाणे म।।



जयकरण पिता के घर म,

ले क जन्म वे आए थे,
माता सुरती देवी जिसने,
उनके लाड लडाये थे-2,
खाटू आले श्याम धणी भी,
कुल के देव कहवाये थे,
गऊ माता की सेवा करके,
फुले नहीं समाये थे-2,
भगति का यो रंग चढ़गया था हेरः रर-2,
बाबा बालक याणे में,
दुनिया जावः तेरे प वारी,
बैठया भगमा बाणे म।।



हरियाणे के सोनीपत में,

बईयांपुर राजधानी र,
समचाणे का शेर मुरारी,
पनमेश्वरी थारी राणी र-2,
कई वर्ष तक हल जोड़या,
या पड़गी धरती बाणी र,
कन्या जन्मी आठ तेरः,
या बणगी अजब कहाणी र-2,
सादा भाव हरदम राखया हेर रर-2,
कोनया रहया उलाणे म,
दुनिया जावः तेरे प वारी,
बैठया भगमा बाणे म।।



पुत्र पाणे की चाहत में,

पहुंचे खाटू धाम र,
आलू सिंह महाराज का जग में,
सुण राखया था नाम र-2,
कीर्तन के महां मिलगे गुरुजी,
सिमरण आगया काम र,
भिक्षा के महां बाबा दे दिया,
बालाजी का धाम र-2,
वंश के बदले भजन ले लिया हेर रर-2,
लागया टहल बजाणे म,
दुनिया जावः तेरे प वारी,
बैठया भगमा बाणे म।।



बालाजी का भगत बणया तुं,

सतगुरु सबते न्यारा र,
बालाजी का गण मिलगया तन्नै,
बाबा संकट हारया र-2,
सेवाकुंज धर्मशाला में देखया,
अजब नजारा र,
गुरु मुरारी की चौकी लग री,
लागे सबने प्यारा र-2,
दुनिया के महां जाण पाटगी हेर रर-2,
भवन तेरा समचाणे म,
दुनिया जावः तेरे प वारी,
बैठया भगमा बाणे म।।



उनतीस मार्च सन् चौदा की,

ब्रह्मबेला वा न्यारी र,
दो बज क चौदा मिन्ट प,
लेगया हंश उडारी र-2,
सब भक्तां ने दर्शन देगया,
सतगुरु देव मुरारी र,
शनिवार के दिन र भाईयों,
बैकुंठ की तयारी र-2,
आज भी तुं दर्शन देव हेर रर-2,
बैठया भवन पुराने म,
दुनिया जावः तेरे प वारी,
बैठया भगमा बाणे म।।



रोहित शर्मा का सपना कर,

बाबा तुं साकार दिए,
नरेन्द्र कौशिक जैसे जग में,
ओर घणे कलाकार दिए-2,
सचिन दहिया की कविताई,
सच्चाई की झंनकार दिए,
सोनीपत विकास नगर में,
बरसा अपणा प्यार दिए-2,
वेद भगत तन्नै याद करै स हेर रर-2,
झजर धोरः महराणे म,
दुनिया जावः तेरे प वारी,
बैठया भगमा बाणे म।।



गुरु मुरारी की बणी समाधि,

सुणो गाम समचाणे म,
दुनिया जावः तेरे प वारी,
बैठया भगमा बाणे म।।

गायक – सचिन दहिया जी।
प्रेषक – राकेश कुमार जी।
खरक जाटान(रोहतक)
9992976579


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

तेरी तेल की ज्योत जगादी काली आवैगी के ना

तेरी तेल की ज्योत जगादी काली आवैगी के ना

तेरी तेल की ज्योत जगादी, काली आवैगी के ना।। तर्ज – यशोदा कृष्ण ने समझा ले। सुंदर दरबार सजाया, मां तेरा जगराता करवाया, जगराते में रौनक लादी, काली आवैगी के…

कुछ दिन रह ले मेहंदीपुर में छिक छिक कै लाडडू खाले

कुछ दिन रह ले मेहंदीपुर में छिक छिक कै लाडडू खाले

कुछ दिन रह ले मेहंदीपुर में, छिक छिक कै लाडडू खाले, तनै ले जा हरियाणे आले।। सब तै ज्यादा भगत तेरे हो, हरियाणे मै बालाजी, देशी घी का बना चुरमा,…

हो मेरे गुरू मुरारी लाल जन्म लो फेर समचाणे में

हो मेरे गुरू मुरारी लाल जन्म लो फेर समचाणे में

हो मेरे गुरू मुरारी लाल, जन्म लो फेर समचाणे में।। जिस घर में तेरा घलः पालणा, जिस घर में तेरा घलः पालणा, ठुमक ठुमक तेरा देखुं चालणा, हो तेरी मन…

मात मेरी वीणा वादिनी री तेरी महिमा सब ते न्यारी लिरिक्स

मात मेरी वीणा वादिनी री तेरी महिमा सब ते न्यारी लिरिक्स

मात मेरी वीणा वादिनी री, तेरी महिमा सब ते न्यारी, मात मेरी भोली भाली री, तेरी महिमा सब ते न्यारी।। तर्ज – बता मेरे यार सुदामा रे। तन पे तेरे…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे