गोविन्द चले आओ गोपाल चले आओ भजन लिरिक्स

गोविन्द चले आओ,
गोपाल चले आओ,
मेरे मुरलीधर माधव,
नन्दलाल चले आओ,
गोविन्द चले आवो,
गोपाल चले आओ।।



आँखों में बसे हो तुम,

धड़कन में धड़कते हो,
कुछ ऐसा करो मोहन,
स्वासों में समां जाओ,
गोविन्द चले आवो,
गोपाल चले आओ।।



इक शर्त ज़माने से,

प्रभु हमने लगा ली है,
या हमको बुला लो तुम,
या खुद ही चले आओ,
गोविन्द चले आवो,
गोपाल चले आओ।।



तेरे दर्शन को मोहन,

मेरे नैन तरसते है,
है अर्ज मेरी मोहन,
अब और ना तरसाओ,
गोविन्द चले आवो,
गोपाल चले आओ।।



गोविन्द चले आओ,

गोपाल चले आओ,
मेरे मुरलीधर माधव,
नन्दलाल चले आओ,
गोविन्द चले आवो,
गोपाल चले आओ।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें