प्रथम पेज शिवजी भजन गौरा जी को ब्याहने आये है शिव जी दूल्हा बनके लिरिक्स

गौरा जी को ब्याहने आये है शिव जी दूल्हा बनके लिरिक्स

गौरा जी को ब्याहने आये है,
शिव जी दूल्हा बनके,
दूल्हा निराले बने है डमरू वाले,
गौरा जी को ब्याहने आए है,
शिव जी दूल्हा बनके।।

तर्ज – भक्तों को दर्शन।



गौरा जी को लगा,

हल्दी चंदन का उबटन,
अंग भभूत रमाए है,
भोले डमरू वाले,
गौरा जी को ब्याहने आए है,
शिव जी दूल्हा बनके।।



गौरा जी के शीश पे,

स्वर्ण मुकुट है,
चंदा का मुकुट लगाए है,
भोले डमरू वाले,
गौरा जी को ब्याहने आए है,
शिव जी दूल्हा बनके।।



गौरा जी के माथे पे,

कुमकुम की बिंदिया,
माथे त्रिपुण्ड बनाए है,
भोले डमरू वाले,
गौरा जी को ब्याहने आए है,
शिव जी दूल्हा बनके।।



गौरा जी के कानो में,

सोने के झूमके,
कानो में बिच्छू सजाए है,
भोले डमरू वाले,
गौरा जी को ब्याहने आए है,
शिव जी दूल्हा बनके।।



गौरा जी के गले में,

सोने का हार है,
नाग गले लिपटाए है,
भोले डमरू वाले,
गौरा जी को ब्याहने आए है,
शिव जी दूल्हा बनके।।



गौरा जी ने ओढ़ी है,

रेशम की चुनरी,
पहने बाघम्बर का दोशाला,
भोले डमरू वाले,
गौरा जी को ब्याहने आए है,
शिव जी दूल्हा बनके।।



गौरा जी को ब्याहने आये है,

शिव जी दूल्हा बनके,
दूल्हा निराले बने है डमरू वाले,
गौरा जी को ब्याहने आए है,
शिव जी दूल्हा बनके।।

Singer – Chetna


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।