प्रथम पेज राजस्थानी भजन एक बार आईजो म्हारे पावणा केसरिया कंवरा गोगाजी भजन

एक बार आईजो म्हारे पावणा केसरिया कंवरा गोगाजी भजन

एक बार आईजो म्हारे पावणा,
केसरिया कंवरा,
आकेली रा धणीया,
देवरिया रा धणीया,
घणी ओ करूँ मनवार,
आकेली रा धणीया,
घणी ओ करूँ मनवार हो ओ।।



अरे गाँव रे आकेली मे बनीयो,

देवरो केसरिया कंवरा,
गाँव रे आकेली मे बनीयो,
देवरो केसरिया कंवरा,
देवरिया रा धणीया,
भगत जोवे थारी बाट,
आकेली रा धणीया,
भगत जोवे थारी बाट हो ओ।।



आवोनी पधारो म्हारे आंगने,

केसरिया कंवरा,
आवोनी पधारो म्हारे आंगने,
केसरिया कंवरा,
आकेली रा धणीया,
ध्वजा ओ फरूके असमान,
आकेली रा धणीया,
ध्वजा ओ फरूके असमान हो ओ।।



पैदल पैदल आवे जातरी,

केसरिया कंवरा,
पैदल पैदल आवे जातरी,
केसरिया कंवरा,
आकेली रा धणीया,
देवरिया रा धणीया,
ध्वजा ओ फरूके असमान,
केसरिया कंवरा,
ध्वजा ओ फरूके असमान हो ओ।।



दूर देशारा आवे जातरी,

केसरिया कंवरा,
दूर देशारा आवे जातरी,
केसरिया कंवरा,
आकेली रा धणीया,
देवरिया रा धणीया,
मेलो रे भरे भरपूर,
आकेली रा धणीया,
मेलो रे भरे भरपूर हो ओ।।



गाय तो दुवावु रजरी,

गोरची केसरिया कंवरा,
गाय तो दुवावु रजरी,
गोरची केसरिया कंवरा,
आकेली रा धणीया,
देवरिया रा धणीया,
दूधा सु धोवावु थारा पाँव,
केसरिया कंवरा,
दूधा सु धोवावु थारा पाँव हो ओ।।



गाँव रे आकेली मे बनीयो देवरो,

केसरिया कंवरा,
गाँव देवरिया माय देवरो,
केसरिया कंवरा,
ध्वजा ओ फरूके असमान,
केसरिया कंवरा,
ध्वजा ओ फरूके असमान हो ओ।।



भैस दुवावु रजरी गोरची,

केसरिया कंवरा,
भैस दुवावु रजरी गोरची,
केसरिया कंवरा,
देवरिया रा धणीया,
आकेली रा धणीया,
गूगरी रंदावु थारे खीर,
केसरिया कंवरा,
गुगरी रंदावु थारे खीर हो ओ।।



लाडू चूरमा ले आयो ओ,

केसरिया कंवरा,
लाडू ने चूरमा ले आयो ओ,
केसरिया कंवरा,
देवरिया रा धणीया,
आकेली रा धणीया,
रूच रूच भोग लगावु,
कंवर जी म्हारा,
रूच रूच भोग लगावु हो ओ।।



साउण्ड चौधरी बाजे आपरे,

केसरिया कंवरा,
साउण्ड चौधरी बाजे आपरे,
केसरिया कंवरा,
आकेली रा धणीया,
देवरिया रा धणीया,
झुझण्डा से डी जे धूम मचाय,
कंवर जी म्हारा,
झुझण्डा रो डी जे धूम मचाय हो ओ।।



“सीरवी मनीष” थारी महिमा,

लिखे ओ कंवरा,
सीरवी मनीष थारी महिमा,
लिखे ओ कंवरा,
आकेली रा धणीया,
देवरिया रा धणीया,
‘रावत चौधरी’ करे अरदास,
केसरिया कंवरा,
रावत चौधरी करे अरदास हो ओ।।



एक बार आईजो म्हारे पावणा,

केसरिया कंवरा,
आकेली रा धणीया,
देवरिया रा धणीया,
घणी ओ करूँ मनवार,
आकेली रा धणीया,
घणी ओ करूँ मनवार हो ओ।।

गायक – रावत चौधरी।
लेखक / प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।