दुनिया जाणे रामदेव जी अजमल घर अवतार भजन लिरिक्स

दुनिया जाणे रामदेव जी,
अजमल घर अवतार,
परगट नही, भया है पीर जी,
परगट नही होया पीर जी,
आया है जन्म धार म्हारा पीर जी,
दुनियाँ जाणे रामदेव जी,
अजमल घर अवतार।।



धर, जल, तेज, पवन, अम्बर,

पांच पिंड आधार 2,
मात – पिता रे ही बिना कूण 2,
देखियो संसार म्हारा पीर जी रे,
दुनियाँ जाणे रामदेव जी,
अजमल घर अवतार।।



सायर सुत, माँ मंगनी रा जाया,

मेघवंशी जयपाल 2,
अजमल जी री आशा पुरण,
बण्या मैणादे रा लाल म्हारा पीर जी,
दुनियाँ जाणे रामदेव जी,
अजमल घर अवतार।।



ज्यूँ जनमिया वे देवकी रे,

बण्या जसोदा रा लाल 2,
पिता वासु जी ज्योरा,
हो जावे नन्दलाल म्हारा पीर जी रे,
दुनियाँ जाणे रामदेव जी,
अजमल घर अवतार।।



मेघ रीखों संग तंवर वंश में,

भलो चमकियो भाण 2,
मेघवंशी रिख रामचन्द्र 2,
गावे सत परमोन म्हारा पीर जी रा,
दुनियाँ जाणे रामदेव जी,
अजमल घर अवतार।।



दुनिया जाणे रामदेव जी,

अजमल घर अवतार,
परगट नही, भया है पीर जी,
परगट नही होया पीर जी,
आया है जन्म धार म्हारा पीर जी,
दुनियाँ जाणे रामदेव जी,
अजमल घर अवतार।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें