अरे र दिये छोटे छोटे लाडू बाबा ने कर दिया जादू

अरे र दिये छोटे छोटे लाडू,
बाबा ने कर दिया जादू।।



जब दो लाड्डू खाये भवन में,

चक्कर लागया चढण बदन में,
अरे र एख दिखण लगाया साधू,
बाबा ने कर दिया जादू,
अर र दियें छोटे छोटे लाडू,
बाबा ने कर दिया जादू।।



भैरव के पायांं में पड़ गया,

प्रेत राज की पौड़ी चढ़ गया,
अरे र पेशी पे पेशी लादयुं,
बाबा ने कर दिया जादू,
अर र दियें छोटे छोटे लाडू,
बाबा ने कर दिया जादू।।



चक्र सात समाधि के लाये,

साख जलेभी के दो खाये,
अरे र एक लाल लंगोट चढ़ादयुं,
बाबा ने कर दिया जादू,
अर र दियें छोटे छोटे लाडू,
बाबा ने कर दिया जादू।।



संकट घणी आँख सी मिचे,

कोये मनः तीन पहाड़ पे खींचे,
अरे र काली की धोक मरादयुं,
बाबा ने कर दिया जादू,
अर र दियें छोटे छोटे लाडू,
बाबा ने कर दिया जादू।।



समशेर वर्मा ने सुरति लादि,

राम अवतार ने सुरति लादि,
अशोक भगत भी स भड़भागि,
अरे र कौशिक के बोल सुणादयुं,
बाबा ने कर दिया जादू,
अर र दियें छोटे छोटे लाडू,
बाबा ने कर दिया जादू।।



अरे र दिये छोटे छोटे लाडू,

बाबा ने कर दिया जादू।।

गायक – नरेंद्र कौशिक जी।
प्रेषक – राकेश कुमार खरक जाटान(रोहतक)
9992976579

एप्प में इस भजन को कृपया यहाँ देखे ⏯


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें