प्रथम पेज दुर्गा माँ भजन ढोल बजने लगे भक्त गाने लगे माता भजन लिरिक्स

ढोल बजने लगे भक्त गाने लगे माता भजन लिरिक्स

ढोल बजने लगे,
भक्त गाने लगे,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई।।

तर्ज – एक तू जो मिला।



भवानी के मंदिर में ज्योत जगे,

मैया जी मूरत सुहानी लगे,
माँ की चोखट जाओ,
माँ की महिमा गाओ,
जगदम्बे के जगरातों की,
रात आ गई,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई।।



सावन का महिना माँ झुला झूले,

पाकर माँ का दर्शन हर मनवा झूमे,
माँ को वंदन करो,
अभिवादन करो,
जगदम्बे के जगरातों की,
रात आ गई,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई।।



जगरातों में माँ सबकी झोली भरे,

हर मन की मुरादें माँ पूरी करे,
माँ के मंदिर जाओ,
माँ के दर्शन पाओ,
नवदुर्गा के जगरातों की,
रात आ गई,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई।।



सारे भक्तों को माँ ने सहारा दिया,

वचन जो दिया उसको पूरा किया,
माँ की जय जय गाओ,
इनकी किरपा पाओ,
Bhajan Diary,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई।।



ढोल बजने लगे,

भक्त गाने लगे,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई,
भवानी के जगरातों की,
रात आ गई।।

स्वर – मुकेश बागड़ा जी।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।