धीन घडी धीन भाग मारे सतगुरु आविया रे लिरिक्स

धीन घडी धीन भाग मारे,
सतगुरु आविया रे,
ओ मारे धीन घडी,
धीन भाग।।



अरे ऊंची पाल शब्द की,

नीचो जमना नीर,
ऊंचो चढने जोवियो रे,
चौदस दिखे रे कबीर,
सतगुरु आविया रे,
ओ मारे धीन घडी,
धीन भाग।।



अरे काई सु बुहारू मेतो,

आंगनो जी ओ संतो,
काई रे गालू गाल,
चन्दन बुहारू मेतो आंगनो जी,
चन्दन बुहारू मेतो आंगनो जी,
केशर गालू गाल,
सतगुरु आविया रे,
ओ मारे धीन घडी,
धीन भाग।।



अरे आंगनीये बवानू डोडा,

एलची जी ओ संतो,
सुगना री नागर बेल,
थाल भरू गज मोतीया री,
करू गुरूजी री सेव,
सतगुरु आविया रे,
ओ मारे धीन घडी,
धीन भाग।।



जुगन जुगन मे,

एरिया जी ओ संतो,
सतगुरु मिलीया रे नही,
बाई अमना री विनती जी,
बाई अमना री विनती जी,
सतगुरु मिलीया रे कबीर,
सतगुरु आविया रे,
ओ मारे धीन घडी,
धीन भाग।।



धीन घडी धीन भाग मारे,

सतगुरु आविया रे,
ओ मारे धीन घडी,
धीन भाग।।

स्वर – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

ए कानुड़ा मारा कटोडे गमईयो हारी रेण राजस्थानी भजन

ए कानुड़ा मारा कटोडे गमईयो हारी रेण राजस्थानी भजन

ए कानुड़ा मारा, कटोडे गमईयो हारी रेण। दोहा – महिमा गावु श्याम री, ओ धरू मन में ध्यान, कृपा राखो नाथजी, सब भगता रो साथ। ए कानुड़ा मारा, कटोडे गमईयो…

घनन घननन घंटा बाजे चामुण्डा के द्वार पर भजन लिरिक्स

घनन घननन घंटा बाजे चामुण्डा के द्वार पर भजन लिरिक्स

घनन घननन घंटा बाजे, चामुण्डा के द्वार पर, रूके यहाँ पर कालरात्रि, चंडमुंड को मार कर, रूके यहाँ पर कालरात्रि, चंडमुंड को मार कर।। निर्मल जल की धारा में, पहले…

ढिबरा झुंजार जी रा परचा भरपूर झुंजार जी भजन

ढिबरा झुंजार जी रा परचा भरपूर झुंजार जी भजन

ढिबरा झुंजार जी रा, परचा भरपूर बावजी, ढिबरा झुंजार जी रा, ए परचा भरपूर, ए सिवरे जनो रे धणी, हाथ हजुर ए जियो झुंजारो, जियो रे हा।। ए ढिबरा गाँव…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

2 thoughts on “धीन घडी धीन भाग मारे सतगुरु आविया रे लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे