धरगे गुरु मुरारी हाथ सुझण लागी अगत की बात

धरगे गुरु मुरारी हाथ सुझण लागी अगत की बात

धरगे गुरु मुरारी हाथ,
सुझण लागी अगत की बात,
सबके कष्ट मिटावः सः,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



बाबा की दिखः स परछाई,

सच्ची अखण्ड जोत जगाई,
सच्चा ध्यान लगावः स,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



कई कई घण्टे जाप करः स,

सिर सतगुरु हाथ धरः स,
मन का भरम मिटावः स,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



छोटी सी पुलिया प धाम,

भक्ति होरी स निसकाम,
मन में मस्ती छावः स,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



राजपाल भक्त स भोला,

इसमें झुठ नहीं स तोला,
दुनिया साथ निभावः स,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



धरगे गुरु मुरारी हाथ,

सुझण लागी अगत की बात,
सबके कष्ट मिटावः सः,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।

गायक – नरेन्द्र कौशिक।
भजन प्रेषक – राकेश कुमार जी,
खरक जाटान(रोहतक)
( 9992976579 )


Video Not Available. We’ll Add Soon.

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें