धरगे गुरु मुरारी हाथ सुझण लागी अगत की बात

धरगे गुरु मुरारी हाथ,
सुझण लागी अगत की बात,
सबके कष्ट मिटावः सः,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



बाबा की दिखः स परछाई,

सच्ची अखण्ड जोत जगाई,
सच्चा ध्यान लगावः स,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



कई कई घण्टे जाप करः स,

सिर सतगुरु हाथ धरः स,
मन का भरम मिटावः स,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



छोटी सी पुलिया प धाम,

भक्ति होरी स निसकाम,
मन में मस्ती छावः स,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



राजपाल भक्त स भोला,

इसमें झुठ नहीं स तोला,
दुनिया साथ निभावः स,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।



धरगे गुरु मुरारी हाथ,

सुझण लागी अगत की बात,
सबके कष्ट मिटावः सः,
मन्नै सुणी स चोटी आले में,
बाबा आवः स।।

गायक – नरेन्द्र कौशिक।
भजन प्रेषक – राकेश कुमार जी,
खरक जाटान(रोहतक)
( 9992976579 )


Video Not Available. We’ll Add Soon.

इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

श्याम धणी तेरी सांवरी सूरत लागे सै घणी ये प्यारी लिरिक्स

श्याम धणी तेरी सांवरी सूरत लागे सै घणी ये प्यारी लिरिक्स

श्याम धणी तेरी सांवरी सूरत, लागे सै घणी ये प्यारी, मैं तो जाऊं बलिहारी।। मोर मुकुट तेरे सर पे सोहे, जिसकी निराली शान है, अधरों पे मुरली साजे तेरे, मनमोहक…

मन्नै तेरी याद सतावे बालाजी भजन लिरिक्स

मन्नै तेरी याद सतावे बालाजी भजन लिरिक्स

मन्नै तेरी याद सतावे, तेरे बिना रहया ना जावः, एक एक दिन पहाड़ बराबर, एक एक दिन पहाड़ बराबर, मन्नै तेरी सुँ हो मेरे बालाजी, हो मेरे बालाजी।। मेरे मन…

देना हो तो दे दे सांवरे क्यों ज्यादा तरसावे से भजन लिरिक्स

देना हो तो दे दे सांवरे क्यों ज्यादा तरसावे से भजन लिरिक्स

देना हो तो दे दे सांवरे, क्यों ज्यादा तरसावे से, ना देना तो साफ नाट, क्यों लखदातार कहावे से।। काट काट के चक्कर, मैं तो तेरे दर के हार लिया,…

हो मेरे गुरू मुरारी लाल जन्म लो फेर समचाणे में

हो मेरे गुरू मुरारी लाल जन्म लो फेर समचाणे में

हो मेरे गुरू मुरारी लाल, जन्म लो फेर समचाणे में।। जिस घर में तेरा घलः पालणा, जिस घर में तेरा घलः पालणा, ठुमक ठुमक तेरा देखुं चालणा, हो तेरी मन…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे