देखूं जिधर उधर ही मेरे श्याम का नजारा भजन लिरिक्स

देखूं जिधर उधर ही,
मेरे श्याम का नजारा,
खाटू का श्याम बाबा,
लगता है सबको प्यारा,
बोलो बोलो जय श्री श्याम,
बोलो बोलो जय खाटू धाम।।



इस दर पे जो भी आया,

अरदास है लगाया,
झोली फैला के अपनी,
दुःख दर्द है सुनाया,
उसको मिला भरोसा,
हर लेता कष्ट सारा,
देखूँ जिधर उधर ही,
मेरे श्याम का नजारा,
खाटू का श्याम बाबा,
लगता है सबको प्यारा।।



किस्मत का लेख भाई,

क्या कोई जान लेगा,
है बुलंदी पे सितारा,
कब टूट कर गिरेगा,
गिरते को थामता है,
चमका दे फिर सितारा,
देखूँ जिधर उधर ही,
मेरे श्याम का नजारा,
खाटू का श्याम बाबा,
लगता है सबको प्यारा।।



विश्वास है ये दिल का,

वो साथी है हमारा,
हम प्रेमी सांवरे के,
सौभाग्य ये हमारा,
हर श्याम प्रेमी बोलो,
वो हारे का सहारा,
देखूँ जिधर उधर ही,
मेरे श्याम का नजारा,
खाटू का श्याम बाबा,
लगता है सबको प्यारा।।



जो मांगोगे मिलेगा,

अर्जी लगा के देखो,
एक बार सांवरे के,
दर पे तो आके देखो,
मिलता है डूबते को,
यहाँ तिनके का सहारा,
देखूँ जिधर उधर ही,
मेरे श्याम का नजारा,
खाटू का श्याम बाबा,
लगता है सबको प्यारा।।



देखूं जिधर उधर ही,

मेरे श्याम का नजारा,
खाटू का श्याम बाबा,
लगता है सबको प्यारा,
बोलो बोलो जय श्री श्याम,
बोलो बोलो जय खाटू धाम।।

Singer – Sourabh Sharma


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें