चलो मन वृन्दावन की ओर भजन लिरिक्स

चलो मन वृन्दावन की ओर,
प्रेम का रस जहाँ छलके है,
कृष्णा नाम से भोर,
चलो मन वृंदावन की ओर।।



भक्ति की रीत जहाँ पल पल है,

प्रेम प्रीत की डोर,
राधे राधे जपते जपते,
दिख जाए चितचोर,
चलो मन वृंदावन की ओर।।



उषा की लाली के संग जहाँ,

कृष्णा कथा रस बरसे,
राधा रास बिहारी के मंदिर,
जाते ही मनवा हरषे,
ब्रिज की माटी चंदन जैसी,
मान हो जावे विभोर,
चलो मन वृंदावन की ओर।।



वन उपवन में कृष्णा की छाया,

शीतल मन हो जाए,
मन भी हो जाए अति पावन,
कृष्णा कृपा जो पाए,
नारायण अब शरण तुम्हारे,
कृपा करो इस ओर,
चलो मन वृंदावन की ओर।।



चलो मन वृन्दावन की ओर,

प्रेम का रस जहाँ छलके है,
कृष्णा नाम से भोर,
चलो मन वृंदावन की ओर।।

स्वर – हरिओम शरण जी।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

मैया बही पूरब से आय कुंवारी हैं रेवा माँ नर्मदा भजन

मैया बही पूरब से आय कुंवारी हैं रेवा माँ नर्मदा भजन

मैया बही पूरब से आय, कुंवारी हैं रेवा, मैया कल कल करती आय, कुंवारी हैं रेवा।। नर नारी आते संध्या में, दीप दान करते मैया का। भोले नाथ बिराजे वहां…

हंसा ये पिंजरा नही तेरा ये पिंजरा नही तेरा भजन लिरिक्स

हंसा ये पिंजरा नही तेरा ये पिंजरा नही तेरा भजन लिरिक्स

हंसा ये पिंजरा नही तेरा, ये पिंजरा नही तेरा।। कंकर चुनी चुनी महल बनाया, लोग कहें घर मेरा, कंकर चुनी चुनी महल बनाया, लोग कहें घर मेरा, ना घर तेरा…

जिसके हृदय में हरी सुमिरण होगा भजन लिरिक्स

जिसके हृदय में हरी सुमिरण होगा उसका सफल क्यों ना जीवन होगा

जिसके हृदय में हरी सुमिरण होगा, उसका सफल क्यों ना जीवन होगा, भक्त को भगवान का चिंतन होगा, उसका सफल क्यों ना जीवन होगा।। तर्ज – रिमझिम बरसता सावन होगा।…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “चलो मन वृन्दावन की ओर भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे