चाहता है साँवरिया कोई ऐसा भी आ जाए भजन लिरिक्स

चाहता है साँवरिया कोई ऐसा भी आ जाए भजन लिरिक्स

चाहता है साँवरिया कोई ऐसा भी आ जाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए।।



यूँ तो लाखों आते हैं पर मांगते ही रहते है,

बाबा मेरे बड़े दयालु बांटते ही रहते है,
छोटी छोटी बातों से सांवरिया खुश हो जाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए।।



लाखों की उस भीड़ में बाबा अपनों को ढूंढे है,

कौन है अपना कौन पराया बाबा यह परखे है,
कैसे हो सांवरिया कोई ऐसा ही कह जाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए।।



जो पूछे कैसे हो बाबा उनका ये हो जाए,

रोज नियम से हाल पूछने उनके घर वो आए,
‘शुभम रूपम’ सारी दुनिया को बस इतना समझाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए।।



चाहता है साँवरिया कोई ऐसा भी आ जाए,

हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए,
हाल पूछ जाए मेरा हाल पूछ जाए।।

स्वर – शुभम रूपम।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें