प्रथम पेज राम भजन बोला प्रभु से यूँ केवट यह विनती है सरकार भजन लिरिक्स

बोला प्रभु से यूँ केवट यह विनती है सरकार भजन लिरिक्स

बोला प्रभु से यूँ केवट,
यह विनती है सरकार,
चरण धुलाओ राम जी,
जाना हो जो पार।।

तर्ज – देना हो तो दीजिये।



बिना चरण धोए मैं रामजी,

नाव में नही बिठाऊंगा,
बन जाए जो नाव यह नारी,
बिना मौत मर जाऊंगा,
मेरा नाव से घर चलता है,
क्या खाएगा परिवार,
चरण धुलाओ राम जी,
जाना हो जो पार।।



राम भगत हूं राम आन,

दशरथ जी के जैसे करता,
मरना जीना दुख-सुख जो भी,
इनसे मैं नहीं डरता,
उतराई भी ना लूंगा,
मानूंगा मैं आभार,
चरण धुलाओ राम जी,
जाना हो जो पार।।



हार गए भगवान भगत से,

अपना चरण धुलाते हैं,
धन्य है केवट पुष्प देवता,
अंबर से बरसाते हैं,
परिवार सहित केवट ने,
किया पितरों का उद्धार,
चरण धुलाओ राम जी,
जाना हो जो पार।।



एक भगत परिवार में हो तो,

सारा कुल तर जाता है,
प्रभु से विमुख अधम जीवन,
धरती का भार बढ़ाता है,
शंभू जिस दिन आओगे,
क्या देखेगा यह संसार,
चरण धुलाओ राम जी,
जाना हो जो पार।।



बोला प्रभु से यूँ केवट,

यह विनती है सरकार,
चरण धुलाओ राम जी,
जाना हो जो पार।।

गायक / प्रेषक – पं. तरुण तिवारी जी।
9098791344


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।