प्रथम पेज कृष्ण भजन बिगड़ी बनेगी तेरी खाटू में सिर झुका ले भजन लिरिक्स

बिगड़ी बनेगी तेरी खाटू में सिर झुका ले भजन लिरिक्स

बिगड़ी बनेगी तेरी,
बिगड़ी बनेगी तेरी,
खाटू में सिर झुका ले,
किस्मत जगेगी तेरी,
किस्मत जगेगी तेरी,
खाटू में सिर झुका ले,
बिगड़ी बनेगी तेरीं,
बिगड़ी बनेगी तेरीं,
खाटू में सिर झुका ले।।

तर्ज – बिगड़ी मेरी बनादे ए शेरों वाली।



दुनिया का है ये राजा

इनकी शरण में आजा,
जो पा सका ना जग से,
वो सांवरे से पा जा,
क्यों करता बन्दे देरी,
खाटू में सिर झुका ले,
बिगड़ी बनेगी तेरीं,
खाटू में सिर झुका ले।।



कहती है सारी दुनिया,

कहते है सारे ज्ञानी,
मेरे साँवरे के जैसा,
दूजा ना कोई दानी,
झोली भरेगी तेरी,
झोली भरेगी तेरी,
खाटू में सिर झुका ले,
बिगड़ी बनेगी तेरीं,
खाटू में सिर झुका ले।।



जलवो से हूँ मैं वाकिफ,

झूठा नहीं है किस्सा,
तेरी रहमतो का श्याम भी,
छोटा सा एक हिस्सा,
सुन ले जुबानी मेरी,
सुन ले जुबानी मेरी,
खाटू में सिर झुका ले,
बिगड़ी बनेगी तेरीं,
खाटू में सिर झुका ले।।



बिगड़ी बनेगी तेरी,

बिगड़ी बनेगी तेरीं,
खाटू में सिर झुका ले,
किस्मत जगेगी तेरी,
किस्मत जगेगी तेरी,
खाटू में सिर झुका ले,
बिगड़ी बनेगी तेरीं,
बिगड़ी बनेगी तेरीं,
खाटू में सिर झुका ले।।

Singer : Raj Pareek


१ टिप्पणी

  1. मुझे भजन बहुत अच्छा लगा यह भजन इतना अच्छा है की दिल की हर गहराइयों में समा गया अगर मैं भी एक गायक कलाकार होता तो मैं इस भजन को अपनी जिंदगी का एक हिस्सा बना लेता

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।