भज नांदेश्वर महाराज निरंजन निकों भजन लिरिक्स

भज नांदेश्वर महाराज निरंजन निकों,
मैं धरु हमेशा ध्यान सदा शिव जी को।।



ओ देवा बड़ा भुजंगी नाग सर्प दो काला,

थारे हिवड़ा में सोह हार गले रुंड माला,
भज नादेश्वर महाराज निरंजन निकों,
मैं धरु हमेशा ध्यान सदा शिव जी को।।



ओ देवा बाघअंबर की खाल बिछावन बंकी,

पर्वता ढोले बाघ हाथ ले बंकी,
भज नादेश्वर महाराज निरंजन निकों,
मैं धरु हमेशा ध्यान सदा शिव जी को।।



ओ देवा आक धतूरा सभी मसालो करके,

थाने पावे गवरजा भांग का प्याला भरके,
भज नादेश्वर महाराज निरंजन निकों,
मैं धरु हमेशा ध्यान सदा शिव जी को।।



ओ देवा कानों में कुंडल जोत जिगा मिग झलके,

होटा पर ललुआ चांद सूरज दो पलकें,
भज नादेश्वर महाराज निरंजन निकों,
मैं धरु हमेशा ध्यान सदा शिव जी को।।



ओ देवा रट रट रावण जाए सेवना किनी,

प्रसन भऐ महाराज लंका लिख दिनी,
भज नादेश्वर महाराज निरंजन निकों,
मैं धरु हमेशा ध्यान सदा शिव जी को।।



ओ देवा सब देवा में आप बड़ा हो देवा,

कोई सबल सिंह राठौड़ करे थारी सेवा,
भज नादेश्वर महाराज निरंजन निकों,
मैं धरु हमेशा ध्यान सदा शिव जी को।।



भज नांदेश्वर महाराज निरंजन निकों,

मैं धरु हमेशा ध्यान सदा शिव जी को।।

गायक – राम अवतार दाधीच।
प्रेषक – सुभाष सारस्वत काकड़ा।
मोबाइल नंबर 9024909170


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें