बजरंगबली तेरे चरणों में मैं शीश झुकाने आया हूँ लिरिक्स

बजरंगबली तेरे चरणों में,
मैं शीश झुकाने आया हूँ,
सिंदूर लंगोटा हाथ लिए,
मैं तुमको मनाने आया हूं।।

तर्ज – क्या तुम्हे पता है।



बस तेरी सूरत दिल में ही,

दिन रात बसी मेरे रहती है,
हर शाम सवेरे नाम जपु,
मेरी धड़कन यह कहती है,
ओ …..,
तेरे दर्शन की इच्छा है,
तेरे दरवाजे आया हूँ,
सिंदूर लंगोटा हाथ लिए,
मैं तुमको मनाने आया हूं,
बजरंगबली तेरे चरणो में।।



बस मेरी एक गुजारिश है,

कभी दूर ना करना ख्वाइश है,
सेवा का अवसर मिलता रहे,
बस मेरी यही फरमाइश है,
ओ ……,
तेरी भक्ति का प्यासा हूं,
तेरी सेवा में आया हूं,
सिंदूर लंगोटा हाथ लिए,
मैं तुमको मनाने आया हूं,
बजरंगबली तेरे चरणो में।।



बजरंगबली तेरे चरणों में,

मैं शीश झुकाने आया हूँ,
सिंदूर लंगोटा हाथ लिए,
मैं तुमको मनाने आया हूं।।

Writer & Singer – Banti Dhaker Patel
(6378724073)


पिछला भजनहमको पग पग पे सहारा है मेरे श्याम का भजन लिरिक्स
अगला भजनओ श्याम बाबा आई ये कैसी महामारी रे भजन लिरिक्स

१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें