अवध बिहारी हो हम आए शरण तिहारी लिरिक्स

अवध बिहारी हो,
हम आए शरण तिहारी,
गिरवर धारी हो,
हम आए शरण तिहारी।।



महापातकी रहा अजामिल,

उसे मिला सुरधाम,
नारायण आ गए लिया जब,
पुत्र का अपने नाम,
संकट हारी हो,
आया शरण तिहारी,
अवध बिहारी हों,
हम आए शरण तिहारी।।



जब जल में गजराज ग्राह में,

युद्ध हुआ घनघोर,
हार गया गज तो बोला,
दौड़ो नंद किशोर,
सुदर्शन धारी हो,
आया शरण तिहारी,
अवध बिहारी हों,
हम आए शरण तिहारी।।



हिरणाकुश प्रहलाद को जब,

बाँधा खंबे के साथ,
तब बोला प्रहलाद कहाँ हो,
आओ दीनानाथ,
शरण हितकारी हो,
आया शरण तिहारी,
अवध बिहारी हों,
हम आए शरण तिहारी।।



अवध बिहारी हो,

हम आए शरण तिहारी,
गिरवर धारी हो,
हम आए शरण तिहारी।।

स्वर – राजन जी महाराज।
प्रेषक – सचिन कौशल।


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें