प्रथम पेज राजस्थानी भजन अँखियाँ रा तारा म्हारा प्राण आधारा रे सोजा म्हारा लाल

अँखियाँ रा तारा म्हारा प्राण आधारा रे सोजा म्हारा लाल

अँखियाँ रा तारा म्हारा प्राण आधारा रे,
आँखीया रा तारा म्हारा प्राण आधारा रे,
म्हारे नैणा नाचे थारा उणियारा रे,
सोजा म्हारा लाल सोजा म्हारा लाल,
सोजा म्हारा लाल।।



हे हिवडो हिलोला लेवे पलका पालनी थे,

हे हिवडो हिलोला लेवे पलका पालनी थे,
थे झुलेला सांझ सवार रे,
सोजा म्हारा लाल सोजा म्हारा लाल,
सोजा म्हारा लाल।।



जगमगती ज्योति मुंगा ममता रा मोती,

जगमगती ज्योति मुंगा ममता रा मोती,
माँ की ममता हुई है लाचार रे,
सोजा म्हारा लाल सोजा म्हारा लाल,
सोजा म्हारा लाल।।



चन्दन महक चहुँ दिश मे बिखरसी,

चन्दन महक चहुँ दिश मे बिखरसी,
पन्ना पिता पति पूत दिया वार रे,
सोजा म्हारा लाल सोजा म्हारा लाल,
सोजा म्हारा लाल।।



अँखियाँ रा तारा म्हारा प्राण आधारा रे,

आँखीया रा तारा म्हारा प्राण आधारा रे,
म्हारे नैणा नाचे थारा उणियारा रे,
सोजा म्हारा लाल सोजा म्हारा लाल,
सोजा म्हारा लाल।।

प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।