आशा थोरी अमर सदा ही धणी रामा भजन लिरिक्स

आशा थोरी अमर सदा ही धणी रामा,

दोहा – धिन धणीया रो देवरो,
हर सागर री तीर,
फरहर नेजा फरहरे,
थाने रंग हो रामा पीर।
घोड़ों हेंवर हँसलो,
आप होया असवार,
हेले हाजर रहवजो बाबा,
निवण करे नर नार।



आशा थोरी अमर,

सदा ही धणी रामा,
हर जी यू हेत करीजे ओ राज।।



सत शब्दों रा धणी सिंवरण व्हेता,

हर रा जाप जपीजे राज,
झालर री झणकार पड़ेला,
जमड़ा दूर करीजे राज।।



खारक धूप ने खोपरा मुगता,

अगर चन्नण भेलीजे राज,
धूपों री मेहकार पड़ेला,
बास बैकुंठा लीजे राज।।



अबला नगरी में निकळंक राजा,

घोड़ो झीण मंडीजे राज,
सुर तेंतीसों होया रे साम्पति,
कळू में देन्त दळीजे राज।।



सतजुग में सदा ही संग रमता,

त्रेताजुग करीजे राज,
दवाजुग पाण्डु जग्य तो रचायो,
कण कळजुग में ओ लीजे राज।।



अड़ा उड़द बिच आरम रचियो,

कुळ री लाज रखीजे राज,
देऊ शरणे हरजी बोले,
भाने री लाज रखीजे राज।।



देऊ म्हारा भाई गुरु हरजी बोले,

सायबो साँच पतीजे राज,
आशा थोरी अमर सदा ही धणी रामा,
हर जी यू हेत करीजे ओ राज।।



आशां थोरी अमर,

सदा ही धणी रामा,
हर जी यू हेत करीजे ओ राज।।

प्रेषक – रामेश्वर लाल पँवार।
आकाशवाणी सिंगर।
9785126052


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

खम्मा खम्मा हो रामा रुणिचे रा धणिया भजन लिरिक्स

खम्मा खम्मा हो रामा रुणिचे रा धणिया भजन लिरिक्स

खम्मा खम्मा हो रामा रुणिचे रा धणिया, श्लोक – बाज रहया है तंदूरा, बाबा रे दरबार, खम्मा खम्मा गावे है, झांजर री झंकार।। खम्मा खम्मा हो रामा रुणिचे रा धणिया,…

प्रणाम गुरू देवजी ने बारम्बार गुरुवंदना लिरिक्स

प्रणाम गुरू देवजी ने बारम्बार गुरुवंदना लिरिक्स

प्रणाम गुरू देवजी ने बारम्बार, श्लोक – गुरू ब्रह्म गुरु विष्णु, गुरु देवो महेश्वर:, गुरु साक्षात परब्रह्म, तस्मै श्रीगुरूवै नम:। ध्यानमूलं गुरुमूर्ति:, पूजामूलं गुरु: पदम्, मंत्रमूलं गुरूवाक्यं, मोक्षमूलं गुरु कृपा।।…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे