आरती लखदातार की खाटू श्याम आरती लिरिक्स

भोर भई दिन,
चढ़ गयो म्हारा बाबा,
हो रही जय जयकार,
मंदिर मा,
आरती लखदातार की,
आरती लखदातार कीं।।

तर्ज – भोर भई दिन।



ज्योत जगावां थारै,

भोग लगावां,
रुचि रुचि करा मनुहार,
मंदिर मा,
आरतीं लखदातार की,
आरतीं लखदातार की।।



केसरियो बागो सोहवे,

छत्तर विराजे,
गले में नौलख हार,
मंदिर मा,
आरतीं लखदातार की,
आरतीं लखदातार की।।



झांझ नगाड़ा थारै,

नौबत बाजै,
बाज रह्या खड़ताल,
मंदिर मा,
आरतीं लखदातार की,
आरतीं लखदातार की।।



मोरछड़ी लहराओ,

म्हारा बाबा,
कष्ट हरो सरकार,
मंदिर मा,
आरतीं लखदातार की,
आरतीं लखदातार की।।



आरती थारी बाबा,

जो जन गावे,
देवो थे भव से तार,
मंदिर मा,
आरतीं लखदातार की,
आरतीं लखदातार की।।



भोर भई दिन,

चढ़ गयो म्हारा बाबा,
हो रही जय जयकार,
मंदिर मा,
आरती लखदातार की,
आरती लखदातार कीं।।

Singer – Raj Pareek
Upload – Sudhir Pareek
9785222605


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें