आँखड़ल्या म्हारी रो रो पुकारै थानै श्याम भजन लिरिक्स

आँखड़ल्या म्हारी,
रो रो पुकारै थानै श्याम।

दोहा – बाट उड़ीकूँ साँवरा,
कद स्युँ खड्या तेरे द्वार,
आँखड़ल्यां री प्यास बुझादे,
साँवरिया सरकार।

आँखड़ल्या म्हारी,
रो रो पुकारै थानै श्याम,
रो रो पुकारै थानै श्याम,
भूल चूक मेरी भूल साँवरा,
सुध लेलो मेरी श्याम,
सुध लेलो मेरी श्याम,
आँखड़ल्यां म्हारी,
रो रो पुकारै थानै श्याम।।



बीच भंवर में डोले नईया,

कुण पकड़ै मेरी बईयाँ,
आँख्यां मूंद कर कइयाँ बैठया,
माखन चोर कन्हैया,
माखन चोर कन्हैया,
पतवारी तू बन के आजा,
बिगड़या बणै सब काम,
बिगड़या बणै सब काम,
आँखड़ल्यां म्हारी,
रो रो पुकारै थानै श्याम।।



इस झूठी दुनिया में साँवरा,

कोई सुणी ना म्हारी,
तू हारे का साथी बनता,
दुनिया बोलै सारी,
दुनिया बोलै सारी,
रस्तो भटक गयो मेरे बाबा,
रस्तो भटक गयो मेरे बाबा,
दया करो मेरे श्याम,
दया करो मेरे श्याम,
आँखड़ल्यां म्हारी,
रो रो पुकारै थानै श्याम।।



करमा और नरसी की खातिर,

दौड़या दौड़या आया,
म्हारी बारी के होया तू,
इब तक क्यूँ ना आया,
इब तक क्यूँ ना आया,
दर्श करादे खाटू वाला,
दर्श करादे खाटू वाला,
‘दीनू’ जपै तेरो नाम,
‘आशु’ जपै तेरो नाम,
आँखड़ल्यां म्हारी,
रो रो पुकारै थानै श्याम।।



आँखड़ल्यां म्हारी,

रो रो पुकारै थानै श्याम,
रो रो पुकारै थानै श्याम,
भूल चूक मेरी भूल साँवरा,
सुध लेलो मेरी श्याम,
सुध लेलो मेरी श्याम,
आँखड़ल्यां म्हारी,
रो रो पुकारै थानै श्याम।।

– गायक एवं प्रेषक –
भारत तिवारी
9990917547


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें