प्रथम पेज कृष्ण भजन आज भरे दरबार करिश्मे दिखलाएगी मोरछड़ी भजन लिरिक्स

आज भरे दरबार करिश्मे दिखलाएगी मोरछड़ी भजन लिरिक्स

आज भरे दरबार करिश्मे,
दिखलाएगी मोरछड़ी,
हिरे मोती बरसेंगे,
जब लहराएगी मोरछड़ी।।



हमने भी देखे इसके,

कितने खेल निराले है,
मंदिर के पट क्या ये तो,
खोले किस्मत के ताले है,
जिसको भी छू लेगी,
मालामाल करेगी मोरछड़ी,
हिरे मोती बरसेंगे,
जब लहराएगी मोरछड़ी।।



श्याम है नैया का माझी,

तो मोरछड़ी पतवार है,
जिसको थाम के करता हमको,
भवसागर से पार है,
आज सभी भक्तो का बेड़ा,
पार करेगी मोरछड़ी,
हिरे मोती बरसेंगे,
जब लहराएगी मोरछड़ी।।



निर्धन को धन दे अंधे को,

ये आँखे दे जाती है,
इसके झाड़े से ‘सोनू’,
बाँझन भी लाल खिलाती है,
जो भी मांगोगे झोली में,
भर जाएगी मोरछड़ी,
हिरे मोती बरसेंगे,
जब लहराएगी मोरछड़ी।।



आज भरे दरबार करिश्मे,

दिखलाएगी मोरछड़ी,
हिरे मोती बरसेंगे,
जब लहराएगी मोरछड़ी।।

स्वर – सौरभ मधुकर।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।