मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम भजन लिरिक्स

0
866
बार देखा गया
मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम भजन लिरिक्स

मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम,
तुम्हारी ही भक्ति में,
तुम्हारी ही भक्ति में,
लगे मेरा मन,
मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम।।

तर्ज – बहुत प्यार करते है।



गोकुल में जाके करूंगा बसेरा,

मुरली मधुर सुन होगा सवेरा,
गैया चराऊंगा,
गैया चराऊंगा मैं तेरे संग,
मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम।।



सदा संग रहना बन के तू साया,

मिले बस मुझे तेरे प्रेम की छाया,
माखन खिलाना,
माखन खिलाना मुझे अपने संग,
मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम।।



तुम्हारे चरणों में रहेगा ठिकाना,

तेरी शरण में ही जीवन बिताना,
इतनी तमन्ना है,
इतनी तमन्ना है सुनलो किशन,
मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम।।



मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम,

तुम्हारी ही भक्ति में,
तुम्हारी ही भक्ति में,
लगे मेरा मन,
मेरे सांवरे जब भी लूं मैं जनम।।

Singer – Sudhir Sangha


आपको ये भजन कैसा लगा? जरूर बताए।

आपकी प्रतिक्रिया
आपका नाम